ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में 2-1 से बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी हराकर स्वदेश लौटी भारतीय टीम के हौसले फिलहाल सातवें आसमान पर हैं लेकिन इससे इंग्लैंड टीम के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) को खास फर्क नहीं पड़ता। ब्रॉड का कहना है कि वो भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में मिली जीत के प्रशंसक हैं लेकिन अब जबकि उनकी टीमें आमने-सामने होंगी तो वो इस बारे में ज्यादा नहीं सोचना चाहेंगे।

इंग्लैंड के अनुभवी तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड का मानना है कि टीम इंडिया अभेद्य नहीं है। ब्रॉड ने डेली मेल के लिए अपने कॉलम में लिखा, “ये (भारत) दौरा आसान नहीं है और इस महीने के शुरू में ऑस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जीतने के बाद भारत का आत्मविश्वास सातवें आसमान पर होगा।”

उन्होंने आगे लिखा, “मैं आपको बता सकता हूं कि ब्रिसबेन में हुए उस निर्णायक मैच में इंग्लैंड टीम के कुछ खिलाड़ी भी टीम इंडिया के समर्थक थे। उन्होंने जो चरित्र, भावना और इच्छाशक्ति दिखाई वो अभूतपूर्व थी। चोटों के बावजूद भारत ने जो हासिल किया है, उससे दुनिया की किसी भी टीम को इस पर गर्व होगा।”

ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने के बाद भारत आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप की अंक तालिका में टॉप पर है। 34 साल के ब्रॉड ने कहा, “इसी वजह से वो विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के प्वाइंट्स टेबल पर टॉप पर हैं। लेकिन अब कुछ ही सप्ताह के बाद हम उनके प्रशंसक से दुश्मन बन गए हैं और हमें अपने दिमाग में भारत के बारे में ज्यादा नहीं सोचना चाहिए। वे अभेद्य नहीं हैं।”

भारत को आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने के लिए इंग्लैंड के साथ पांच फरवरी से होने वाली चार मैचों की टेस्ट सीरीज को 2-0 के अंतर से जीतने की जरूरत है। अगर वो एक टेस्ट हार जाता है तो उसे इंग्लैंड के खिलाफ बाकी तीन टेस्ट जीतने होंगे। दूसरी तरफ, इंग्लैंड को भारत को 3-0 से हराना होगा। इंग्लैंड अगर 2-2 से ड्रॉ भी खेलता है तो वो आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की अंकतालिका में भारत से आगे नहीं निकल सकता।