India vs England: There aren’t too many teams who come away from India with a series win, says Ben Stokes
बेन स्टोक्स (AFP)

चेन्नई में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में 317 रनों से मिली हार के बाद इंग्लैंड क्रिकेट टीम अहमदाबाद में होने वाले तीसरे टेस्ट में जीत हासिल कर सीरीज में वापसी करने की तैयारी कर रही है। हालांकि टीम के स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने माना कि भारत में आकर टीम इंडिया के खिलाफ सीरीज जीतना किसी भी टीम के लिए आसान नहीं है।

‘डेली मिरर’ में अपने कॉलम में स्टोक्स ने लिखा, “ऐसी ज्यादा टीमें नहीं हैं जिन्होंने भारत आकर सीरीज जीती हो। 2012 वाली टीम का इस उपलब्धि पर गर्व करना सही है और बाकी के खिलाड़ी रूट, जॉनी, जिमी और ब्रॉडी के साथ इस उपलब्धि को हासिल करना चाहते हैं।”

भारत में स्पिनरों की मददगार पिचों को लेकर चर्चा को दरकिनार करते हुए इंग्लैंड के ऑलराउंडर ने कहा कि टेस्ट खिलाड़ियों को हर तरह की परिस्थितियों में खेलने का आदी होना चाहिए। दरअसल पहले दो टेस्ट मैचों के बाद चेन्नई का टर्निंग विकेट क्रिकेट जगत में चर्चा का विषय बना हुआ है और माइकल वॉन जैसे इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ियों ने सवाल उठाए हैं कि क्या इस तरह के विकेट टेस्ट क्रिकेट के लिए आदर्श हैं?

स्टोक्स ने कहा, ‘‘एक टेस्ट बल्लेबाज होने का मतलब है कि आपको हर तरह की परिस्थिति का सामना करने में सक्षम होना चाहिए। भारत ऐसा स्थान है जहां विदेशी बल्लेबाजों के लिए सफलता हासिल करना बहुत मुश्किल होता लेकिन इंग्लैंड में भी ऐसा होता है। और ये चुनौती खेल का हिस्सा है और इसलिए हम इसे पसंद करते हैं।’’

ECB की रोटेशन पॉलिसी के समर्थन में उतरे जेम्स एंडरसन, कहा- बड़ी तस्वीर पर गौर करना जरूरी

भारत ने चेन्नई में दूसरा टेस्ट मैच 317 रन से जीतकर चार मैचों की सीरीज बराबर कराई। स्टोक्स ने उस मैच में केवल दो ओवर किए जो चर्चा का हिस्सा है। उन्होंने कहा, ‘‘इस तथ्य पर बहुत अधिक गौर करने की जरूरत नहीं है कि मैंने दूसरे मैच में अधिक ओवर नहीं किये। अगर ये घास वाली पिच होती तो निश्चित तौर पर मैं अधिक ओवर करता। मुझे लगता है कि दूधिया रोशनी में खेले जाने वाले अगले मैच में गेंदबाजी करने के लिए मेरे पास कई कारण हो सकते हैं।’’

भारत और इंग्लैंड के बीच होने वाले तीसरे टेस्ट मैच में दोनों टीमों के पास विश्व टेस्ट चैंपियनिशप का फाइनल के लिए क्वालिफाई करने का मौका है। भारत को इसके लिए जहां एक जीत और एक ड्रॉ की जरूरत है वहीं इंग्लैंड को दोनों मैच जीतने होंगे।