इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए चौथे और अंतिम टेस्ट मैच में टीम इंडिया को अपने दम पर जीत दिलाने वाले रिषभ पंत (Rishabh Pant) अपने प्रदर्शन से सतुष्ट हैं. मैच के बाद जब उन्हें मैन ऑफ द मैच (Man of The Match Rishabh Pant) चुना गया तो इस युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा कि जब टीम को जरूरत हो उस वक्त प्रदर्शन कर खुद को साबित करने से बेहतर कुछ नहीं है. इस मौके पर उन्होंने इंग्लैंड के दिग्गज फास्ट बॉलर जेम्स एंडरसन की गेंद पर मारे गए रिवर्स स्वीप पर भी खास बात की.

इस मैच में रिषष पंत जब बल्लेबाजी कर रहे थे, तब एक वक्त पर टीम इंडिया मुश्किल में फंस चुकी थी. बेन स्टोक्स के घातक स्पेल के चलते भारत ने 146 रन पर ही अपने 6 विकेट गंवा दिए थे. भारतीय टीम इंग्लैंड के पहली पारी के स्कोर के आधार पर अभी 59 रन पीछे थी. यहां से पंत ने वॉशिंग्टन सुंदर (96*) के साथ मिलकर मोर्चा संभाला और उसे इस मुश्किल हालात से बखूबी निकाल लिया.

पंत (101) ने 118 गेंदों की अपनी पारी में 13 चौकों और 2 छक्कों की मदद से शानदार शतक अपने नाम किया. यह टेस्ट क्रिकेट में उनका तीसरा और भारत में पहला शतक था. मैन ऑफ द मैच का खिताब लेने आए पंत ने कहा, ‘यह मेरे करियर की महत्वपूर्ण पारी है. खासतौर से तब जब टीम दबाव में थी. 146 पर 6 विकेट गंवाकर हम मुश्किल परिस्थिति में थे.’

इस युवा खिलाड़ी ने कहा, ‘इससे बेहतर कुछ नहीं है कि जब टीम को आपकी सबसे ज्यादा जरूरत हो और उस वक्त परफॉर्म कर दें.’ इस मौके पर पंत से एंडरसन के खिलाफ रिवर्स स्वीप फ्लिक पर भी बात की गई. इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘अगर मुझे किसी तेज गेंदबाज के खिलाफ दोबारा रिवर्स फ्लिक का मौका मिला तो मैं निश्चित तौर पर ऐसा करूंगा.’

इस मौके पर पंत ने अपनी विकेटकीपिंग में आए सुधार पर भी बात की. इस युवा विकेटकीपर खिलाड़ी ने कहा कि मैं विकेटकीपिंग के लिए जो जरूरी ड्रिल कर रहा हूं. उससे मदद मिली है. इसके अलावा मुझे अपनी बैटिंग से जो विश्वास हासिल हुआ है उसे मैं विकेटकीपिंग में भी लेकर आने में मदद मिल रही है.