विराट कोहली ने भारत के लिए शानदार नाबाद 85 रनों की पारी खेली © IANS
विराट कोहली ने भारत के लिए शानदार नाबाद 85 रनों की पारी खेली © IANS

धर्मशाला में खेले गए पहले मैच में भारत ने न्यूजीलैंड को आसानी से हरा दिया। भारत ने जीत के साथ ही पांच मैचों की सीरीज में 1-0 की अजेय बढ़त बना ली। न्यूजीलैंड ने भारत के सामने जीत के लिए 191 रनों का लक्ष्य रखा था, जिसे भारत ने आसानी से 6 विकेट रहते हासिल कर लिया। भारत ने 33.1 ओवर में लक्ष्य को हासिल किया। कोहली ने भारत छक्का मारकर जीत दिलाई। लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत अच्छी रही और रहाणे-रोहित शर्मा की सलामी जोड़ी ने भारत के लिए पहले विकेट के लिए 49 रन जोड़े।

रोहित शर्मा 14 रन बनाकर ब्रेसवेल की गेंद पर LBW आउट हो गए। इसके बाद बल्लेबाजी करने आए विराट कोहली ने रहाणे के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया और दोनों के बीच जब साझेदारी जमती हुई दिख रही थी तभी रहाणे नीशम की गेंद को खेलने के चक्कर में आउट हो गए। भारत के 62 रन के भीतर दो विकेट गिर चुके थे, इसके बाद बल्लेबाजी के लिए मैदान पर आए मनीष पांडे, पांडे और कोहली के बीच 40 रनों की साझेदारी हुई और इसी बीच कोहली ने अपना अर्धशतक पूरा किया। मनीष पांडे अच्छी लय में दिख रहे थे लेकिन वह दुर्भाग्यवश सोढ़ी की गेंद को खेलने के चक्कर में मिड ऑन में लपक लिए गए। इसके बाद मैदान पर आए कप्तान धोनी ने कोहली के साथ मिलकर टीम को जीत की तरफ ले जाने लगे दोनों के बीच 60 रनों की साझेदारी हुई, हालांकि धोनी की किस्मत ने साथ नहीं दिया और वह रन आउट हो गए, धोनी ने आउट होने से पहले 24 गेंदों में 21 रन बनाए, इस दौरान धोनी ने एक छक्का और एक चौका लगाया।

इसके बाद कोहली का साथ देने आए केदार जाधव ने भारत को कोई और झटका नहीं लगने दिया और भारत को 6 विकेट से जीत दिला दी। विराट कोहली ने भारत की तरफ से नाबाद 81 गेंदों पर 85 रनों की पारी खेली, कोहली ने अपनी पारी में 9 चौके और एक शानदार विजयी छक्का लगाया।

वहीं इससे पहले, भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया। कप्तान धोनी के फैसले को गेंदबाजों ने सही ठहराते हुए न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों को क्रीज में जमने नहीं दिया और एक-एक करके विकेट लेते चले गए। भारतीय तेज गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड को शुरू से ही बैकफुट पर रखा और अपना पहला वनडे मैच खेल रहे हार्दिक पांड्या ने टीम को पहला विकेट दिलाया। इसके बाद दोनों तेज गेंदबाजों ने कीवियों की कमर तोड़ते हुए एक-एक कर विकेट लेते चले गए।

न्यूजीलैंड के सात खिलाड़ी 20 ओवर के अंदर ही पवेलियन लौट गए। स्कोरबोर्ड पर सिर्फ 65 रन ही टंगे थे और कीवियों के साथ खिलाड़ी पवेलियन लौट चुके थे। न्यूजीलैंड का आठवां विकेट 106 रन पर गिरा। लेकिन एक तरफ न्यूजीलैंड के विकेट गिरते जा रहे थे और दूसरी तरफ टीम के लिए ओपनिंग करने आए टॉम लेथम मैदान पर टिके हुए थे, इसके बाद लेथम ने टिम साऊदी के साथ मिलकर 10वें विकेट के लिए 77 रनों की साझेदारी निभाई।

न्यूजीलैंड के 31.5 ओवर में 106 रन पर 8 विकेट गिर चुके थे। ऐसे में मैदान वर बल्लेबाजी करने उतरे न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज टिम साऊदी। साऊदी तो आपने गेंद से धमाल मचाते कई बार देखा होगा, लेकिन धर्मशाला में साऊदी ने गेंद से नहीं बल्कि बल्ले से भारतीय को परेशान कर डाला और अपने वनडे करियर का पहला अर्धशतक ठोक दिया। जरहां न्यूजीलैंड की हालत एस समय काफी बुरी दिख रही थी, साऊदी के अर्धशतक की मदद से टीम सम्मानजनक स्कोर खड़ा करने में कामयाब रही।

साऊदी ने 10वें नंबर पर उतरते हुए 45 गेंदों में 6 चौकों और छक्कों की मदद से 55 रन ठोक डाले। साऊदी भारतीय टीम के लिए सरदर्दी बन गए थे और भारतीय गेंदबाज जो कीवियों को तास के पत्तों की तरह ढहा रहे थे उनके खिलाफ तेजी से रन बना रहे थे। जैसे ही साऊदी क्रीज पर उतरे वैसे ही साऊदी ने भारतीय गेंदबाजों की खबर लेते हुए हर गेंदबाज के खिलाफ रन बनाए। न्यूजीलैंड के लिए साऊदी ने महत्वपूर्ण 55 रन रन बनाए। इसी के साथ ही साऊदी ने अपने वनडे करियर का पहला अर्धशतक और सर्वोच्च स्कोर बना डाला।

वहीं लेथम ने भी अपने करियर का पांचवां अर्धशतक जमाते हुए अंत तक आउट नहीं हुए। लेथम और साऊदी के अर्धशतकों की बदौलत न्यूजीलैंड की टीम एक ऐसा स्कोर खड़ा कर सकी जिसको वह डिफेंड करने के लिए जा सकते हैं। न्यूजीलैंड के तीन बल्लेबाज शून्य पर आउट हुए तो कुल छह बल्लेबाज दहाई के आंकड़े तक नहीं पहुंच सके।

वहीं भारतीय गेंदबाजों की बात करें तो अपना पहला वनडे खेल रहे हार्दिक पांड्या और अमित मिश्रा ने 3-3 विकेट लिए और उमेश यादव और केदार जाधव को 2-2 विकेट मिले। पांड्या को बेहतरीन खेल के लिए मैन ऑफ द मैच का खिताब मिला।

भारत ने इस जीत के साथ ही पांच वनडे मैचों की सीरीज में एक शून्य की बढ़त बना ली है, सीरीज का दूसरा मैच दिल्ली के फिरोज शाह कोटला में 20 अक्टबूर को खेला जाएगा।