एम एस धोनी © Getty Images
एम एस धोनी © Getty Images

पुणे में न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में एम एस धोनी ने एक ऐसे कारनामे को अंजाम दिया जो भारतीय क्रिकेट इतिहास में कोई विकेटकीपर नहीं कर पाया है। एम एस धोनी ने पुणे में मार्टिन गप्टिल का कैच लपकते ही हिंदुस्तानी सरजमीं पर अपने 200 अंतर्राष्ट्रीय कैच पूरे कर लिए। एम एस धोनी ने 223 पारियों में इस कारनामे को अंजाम दिया। एम एस धोनी ने 223 पारियों में कुल 201 कैच लपक लिए हैं। धोनी ये कारनामा करने वाले पहले भारतीय और दुनिया के तीसरे विकेटकीपर हैं।

धोनी से पहले इंग्लैंड के विकेटकीपर एलेक स्टीवर्ट और कुमार संगाकारा ने भी अपने देश में 200 से ज्यादा कैच लपकने का कारनामा किया है। एलेक्ट स्टीवर्ट ने इस कारनामे को सिर्फ 131 पारियों में 200 कैच लपक लिए थे जबकि श्रीलंकाई विकेटकीपर संगाकारा ने इसके लिए 165 पारियां ली थी। मतलब एम एस धोनी अपने घर पर 200 अंतर्राष्ट्रीय कैच लपकने वाले सबसे धीमे विकेटकीपर भी हैं।

पुणे वनडे में एम एस धोनी ने भुवनेश्वर की गेंद पर सबसे पहले रॉस टेलर का कैच लपका और इसके बाद धोनी ने हार्दिक पांड्या की गेंद पर रॉस टेलर का कैच लपका। मुंबई वनडे में हार झेलने के बाद पुणे वनडे में टीम इंडिया के गेंदबाजों ने जबर्दस्त गेंदबाजी की और खबर लिखे जाने तक सिर्फ 166 रन पर उसके 6 विकेट गिरा दिए।

कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में घुसपैठ, मैदान में घुसे अनजान लोग
कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में घुसपैठ, मैदान में घुसे अनजान लोग

भारतीय गेंदबाजों ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी कर रही कीवी टीम को काफी परेशान किया। टीम इंडिया के लिए भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह ने न्यूजीलैंड के 3 बल्लेबाजों को पहले 7 ओवरों में ही पैवेलियन की राह दिखा दी जिसके बाद एक बड़ा रिकॉर्ड बन गया। भारतीय गेंदबाजों ने वनडे में सिर्फ दूसरी बार पहले 7 ओवर में विरोधी टीम के 3 विकेट गिराए। इससे पहले चेन्नई वनडे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारतीय गेंदबाजों ने ऐसा किया था।