एमएस धोनी © Getty Images
एमएस धोनी © Getty Images

टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को कानपुर वनडे में सांसें थाम देने वाले मुकाबले में 6 रनों से हरा दिया। इसके साथ ही सीरीज भी 2-1 से अपने नाम कर ली। एक समय न्यूजीलैंड को आखिरी ओवर में जीतने के लिए के लिए 15 रनों की दरकार थी। इसके एक ओवर पहले छक्का लगा चुके सेंटनर पूरी तरह से सेट नजर आ रहे थे। आखिरी ओवर फेंकने आए बुमराह की दूसरी गेंद पर ग्रैंडहोम ने सिंगल ले लिया और एक बार फिर से सेंटनर स्ट्राइक पर थे। विकेटों के पीछे धोनी भांप गए कि सेंटनर यहां से मैच का रुख मोड़ सकते हैं और सीधे बुमराह के पास गए और उनसे कुछ कहा और फिर से वापस विकटों के पीछे आ गए।

अगली गेंद बुमराह ने शॉर्ट या हाफ-वाली नहीं डाली बल्कि फुलटॉस डाल दी, सेंटनर इस गेंद की बिल्कुल भी उम्मीद नहीं कर रहे थे और वह गेंद को हवा में खेल गए, गेंद ज्यादा दूर नहीं गई और मिड विकेट पर धवन ने कैच पकड़ लिया, इस तरह से सेंटनर का खात्मा हो गया और टीम इंडिया ने आखिरकार मैच अपनी झोली में डाल लिया। यही नहीं बल्कि तीन ओवर पहले तेज तर्रार अंदाज में बल्लेबाजी कर रहे टॉम लेथम को रन आउट करने में भी धोनी ने बुमराह का अच्छा साथ दिया और टीम इंडिया की मैच में जोरदार वापसी करवाई।

वैसे इस रन आउट के बाद धोनी जमकर पर जमकर हंसे। वह बुमराह की तरफ देखकर कह रहे थे कि आप आगे जाकर भी गेंद स्टंप पर मार सकते थे। मैच के आखिरी छड़ों में कप्तान कोहली से ज्यादा धोनी मैदान पर सक्रिय नजर आए। वह लगातार गेंदबाजों से बात कर रहे थे और हौसला बढ़ा रहे थे।

करीबी मैच में क्यों हारी न्यूजीलैंड, टॉम लेथम ने बताया कारण
करीबी मैच में क्यों हारी न्यूजीलैंड, टॉम लेथम ने बताया कारण

मैच के बाद कॉन्फ्रेंस में बुमराह ने बताया, “मैं ज्यादातर समय अपना दिमाग ठंडा रखता हूं। मुझे लगता है कि वह आपको अपनी योजनाओं के बेहतर तरीके से लागू करने का मौका देता है।”

 

लेथम के रन आउट के बारे में बातचीत करते हुए बुमराह ने कहा, “मुझे स्टंप्स पर जाना चाहिए था और विकेट बिखेर देने चाहिए थे। यह अच्छा रहा कि मैं स्टंप्स में गेंद मार सका। ऐसी ही चीज इंग्लैंड में हुई थी, इसीलिए धोनी हंस रहे थे। मैं मैच पर ध्यान देता हूं, हर गेंद पर पैनी नजर बनाए रखते हुए अपनी योजना को लागू करने की कोशिश करता हूं। मैं गेंद को अंत तक देखने की कशिश करता हूं। ओस के कारण गेंदबाजी करना कठिन था। आपको खुद को भरोसा दिलाना पड़ता है और मैं वही कर रहा था। इसी तरह से क्रिकेट चलता है।”