दिनेश कार्तिक © AFP
एमएस धोनी और दिनेश कार्तिक © AFP

टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने टीम में वापसी करते ही नंबर 4 पोजीशन में खेलने के लिए अपनी दावेदारी पेश कर दी है। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि अगर उन्हें मौका दिया जाता है तो इस पोजीशन पर बल्लेबाजी करना उनके लिए बढ़िया होगा और वह अपने आपको श्रेष्ठ साबित कर पाएंगे। टीम इंडिया पिछले कुछ समय से नंबर 4 पर अच्छे बल्लेबाज की तलाश में है। पिछले दिनों जितने भी खिलाड़ियों को इस पोजीशन पर आजमाया गया है वे असफल रहे हैं। ऐसे में दिनेश कार्तिक ने सही पत्ता फेंका है।

न्यूजीलैंड के खिलाफ आगामी वनडे सीरीज के लिए बीसीसीआई ने दिनेश कार्तिक को टीम में शामिल किया है वहीं केएल राहुल को टीम से बाहर का रास्ता दिखाया है। राहुल को ऑस्ट्रेलिया सीरीज में एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला था। उसके पहले वह श्रीलंका सीरीज में लगातार असफल रहे थे। कार्तिक ने इस ओर इशारा किया कि उनके द्वारा नंबर 4 पर कई स्तरों पर बल्लेबाजी करना उन्हें सही स्थान पर लाता है। कार्तिक ने अभी तक खेले 73 वनडे मैचों में से नंबर 4 पर बल्लेबाजी 11 मैचों की है। इस दौरान उन्होंने 30.57 की औसत से 214 रन बनाए हैं।

कार्तिक ने इस साल विजय हजारे ट्रॉफी में भी सबसे ज्यादा 607 रन 9 पारियों में बल्लेबाजी करते हुए बनाए थे। इस दौरान उनका औसत 86.71 रहा था। इस दौरान उनके द्वारा लगाए गए दो शतकों में से एक शतक फाइनल में बंगाल के खिलाफ आया था और इस शतक की बदौलत ही उनकी टीम खिताब जीतने में कामयाब रही थी।

क्रिकबज के हवाले से कार्तिक ने कहा, “मैंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट समेत कई फॉर्मेटों में नंबर 4 पर बल्लेबाजी की है। मुझे पूरा विश्वास है कि अगर मौका दिया गया तो मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास करूंगा। मुझे लगता है कि नंबर 4 पोजीशन मेरे लिए बेहतरीन है। मैं वाइट बॉल क्रिकेट में तमिलनाडु के लिए अच्छी बल्लेबाजी करता रहा हूं और ये बेहतर रहा है।”

[ये भी पढ़ें: पाकिस्तान ने किया टी20 टीम का ऐलान, मोहम्मद हफीज की हुई वापसी]

कार्तिक ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वह उस ख्याति को हासिल नहीं कर पाए हैं। कार्तिक ने इस बात को स्वीकारा कि राष्ट्रीय टीम से अंदर और बाहर जाना खासा कठिन था। कार्तिक को टीम इंडिया की चैंपियंस ट्रॉफी टीम में चोटिल मनीष पांडे की जगह शामिल किया गया था। बाद में कार्तिक को वेस्टइंडीज के खिलाफ सीमित ओवर सीरीज में भी मौका दिया गया था। यहां कार्तिक ने दो मैच खेलते हुए 2 और 50 नॉट आउट का स्कोर किया था।

कार्तिक श्रीलंका के खिलाफ सीरीज में टीम इंडिया में जगह नहीं बना पाए क्योंकि वरीयता केएल राहुल को दी गई। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया सीरीज में मनीष पांडे को जगह दी गई है। वैसे न्यूजीलैंड सीरीज में मनीष पांडे और कार्तिक के बीच नंबर 4 पोजीशन को लेकर जंग जरूर होगी।

कार्तिक ने कहा, “मुझे लगता है कि इंटरनेशनल क्रिकेट कुछ स्तर ऊपर है। आपके लिए जरूरी है कि आप वहां अपनी जगह बनाएं। जब भी आपको मौका मिले आप कोशिश करो और वहां जहां तक संभव हो और बेहतर करो। वापस आना और अंदर जाना ये खासा कठिन है। यह उतना आसान नहीं है। अगर मुझे मौका मिलता है तो यह मेरे ऊपर निर्भर करता है कि मैं इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाऊं। जाहिरतौर पर, मैंने मनीष पांडे की जगह टीम में जगह बनाई थी, और मैंने अच्छा प्रदर्शन किया, उन्होंने सोचा कि मनीष फिट हैं और उसे मौका देना चाहते थे। मैं मौका मिलने का इंतजार कर रहा था और अब पाकर खुश हूं।”

कार्तिक ने ये भी बताया उनकी बातचीत भारतीय कोच रवि शास्त्री से हुई, रवि ने उन्हें बताया कि उन्हें किस चीज पर काम करने की जरूरत है। कार्तिक ने कहा, “शास्त्री बेहतरीन हैं। हमने बातचीत की और उन्होंने मुझे बताया कि मैं किस चीज पर प्रयास करूंगा और वह कैसे मुझे भविष्य में देखते हैं। मैं उनसे उस बारे में बातचीत करके बहुत खुश हूं। संजय बांगड़, भरत अरुण और आर श्रीधर- ये बेहतरीन सपोर्ट स्टाफ हैं और मैं भारतीय टीम का हिस्सा बनकर खुशी महसूस कर रहा हूं।”

जैसा कि टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ 3 वनडे मैच खेलने हैं। अगर परिस्थिति अलग हुई तो हार्दिक पांड्या को भी इस पोजीशन पर आजमाया जा सकता है। ऐसे में अगर कार्तिक को मौका मिलता है इस पोजीशन पर तो उन्हें हर हाल में अच्छा प्रदर्शन करना होगा।