विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी  © AFP (File Photo)
विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी © AFP (File Photo)

कोलकाता। भारतीय टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने आईसीसी टी-20 विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ छह विकेट से जीत दिलाने वाले विराट कोहली की तारीफ की है। धोनी ने कहा है कि कोहली की रन बनाने की भूख और चुनौतियों का सामना करने की इच्छा उनके लगातार अच्छे प्रदर्शन का कारण है। धोनी ने कहा, “उनकी सबसे बड़ी खूबी हर चीज को एक चुनौती के तौर पर लेना है। वह हर मैच में रन बनाना चाहते हैं। उनकी रन बनाने की भूख और चुनौतियों का सामना करने की इच्छा उन्हें विशेष बनाती है।” कोहली ने शनिवार को पाकिस्तान के खिलाफ 37 गेंदों में 55 रनों की पारी खेल टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी। धोनी ने कहा, “वह अपने आपको तैयार करते हैं। अपनी फिटनेस का ध्यान रखते हैं। उन्हें पता होता है की अलग-अलग हालात में उन्हें कैसे बल्लेबाजी करनी हैं। हम सभी जानते हैं कि जब भी उन्हें अच्छी शुरुआत मिलती है वह उसे बड़ी पारी में बदलते हैं जोकि एक बल्लेबाज के लिए सबसे महत्वपूर्ण है।” भारत बनाम पाकिस्तान, आईसीसी टी20 विश्व कप: फुल स्कोरकार्ड देखने के लिए क्लिक करें…

धोनी ने कोहली के दबाव को झेलने की काबिलियित की भी सराहना की है। धोनी ने कहा, “दबाव के समय हमने देखा है कि कई लोग बड़े शॉट्स खेल कर दबाव कम करते हैं उनके हिसाब से यह सही विकल्प होता है। लेकिन दबाव में अच्छा खेलने का सबसे अच्छा तरीका है एक रन लेकर दूसरे छोर पर खड़ा होना है। इससे आप को शांत होने का समय मिलता है और यह देखने का कि आप कहां रन बना सकते हो।” धोनी ने कहा, “हर कोई अपनी क्षमता जानता है। किसी की क्षमता अच्छा फ्लिक करने की होती है तो किसी की कट शॉट की। इसलिए गेंद जब आपके क्षेत्र में आए तो आपको अपना शॉट खेलना चाहिए और अगर नहीं आए तो एक रन लेकर दूसरे छोर पर चले जाना बेहतर है।” ये भी पढ़ें: भारतीय टीम की पाकिस्तान पर जीत के पांच कारण

उन्होंने कहा, “अगर आप कोहली की बल्लेबाजी को देखेंगे तो वह यही करते हैं। वह दूसरों से इसलिए आगे रहते हैं क्योंकि वह रन लेने की हर संभव कोशिश करते हैं इसलिए उन्हें उन लोगों के साथ खेलना पसंद हैं जो तेज भागते हों।” धोनी ने कहा, “तेज रन भागना जल्दी रन बनाने का सबसे आसान तरीका है। अगर दो तेज भागने वाले खिलाड़ी हैं तो आप एक रन को दो रन में बदल सकते हो जिससे विपक्षी टीम पर दबाव बढ़ता है।” धोनी ने खराब फॉम से जूझ रहे सरेश रैना का भी बचाव किया है। धोनी ने कहा, “जब खिलाड़ी एक या दो मैच में रन नहीं बना पाता तो सवाल खड़े होते हैं। लेकिन खिलाड़ी के साथ खड़े होना जरूरी होता है। रैना नंबर चार पर सबसे उपयुक्त बल्लेबाज हैं।”

धोनी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ हार झेलने के बाद टीम द्वारा की गई शानदार वापसी के लिए टीम की तारीफ की है। धोनी ने कहा, “एक बुरे मैच या श्रृंखला के बाद वापसी करना बताता है कि खिलाड़ी कितने मजबूत हैं। हम इस तरह की परिस्थिति में कई बार रहे हैं। कई लोग यह पूछ सकते हैं कि हम लगातार इस स्थिति में कैसे आ जाते हैं लेकिन सचाई यह है कि जब आपके पास इस परिस्थति का अनुभव होता है तो आपको यह भी पता होता है कि उससे बाहर कैसे आना है।” धोनी ने हालांकि कहा कि टीम में अभी भी सुधार की गुंजाइश है।

उन्होंने कहा, “मुझे अभी भी लगता है कि कई जगह हमें सुधार करने की जरूरत है। अगले दो मैचों में हमारी प्रथमिकता यही होगी क्योंकि हमारा रन रेट खराब है। सब कुछ जीत पर निर्भर नहीं करता है, कई बार रन रेट भी मायने रखता है।” भारत ने विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ अपने जीत के सिलसिले को कायम रखा है लेकिन धोनी का मानना है कि कभी ना कभी यह रिकार्ड टूटेगा। धोनी ने कहा, “पाकिस्तान के खिलाफ 100 फीसदी जीत का रिकॉर्ड जितना हमारे लिए गर्व की बात है उतना ही उनके लिए दबाव का कारण है। लेकिन कभी ऐसा समय आएगा की हम विश्व कप में उनसे हारेंगे। इसमें दौ,10 या हो सकता है 50 साल लग जाएं लेकिन ऐसा होगा यह तय है।”