India vs South Africa, 4th ODI: Shikhar Dhawan’s 13th ton take visitors to 289/7 at Johannesburg
शिखर धवन © Getty Images

भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के शानदार शतक और आखिरी के ओवरों में महेंद्र सिंह धोनी की 42 रनों की संघर्षपूर्ण पारी की मदद से टीम इंडिया ने जोहान्सबर्ग वनडे में 7 विकेट खोकर 289 रन बनाए है। 34.2 ओवरों के बाद मैदान के आस पास तेज बिजली कड़कने की वजह से अंपायरों ने मैच रोक दिया था लेकिन एक घंटे के अंदर मैच फिर से शुरू हो गया था। धवन ने 102 गेंदो पर 10 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 107 बनाए हैं। इसके साथ धवन अपने 100वें वनडे मैच में शतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। इससे पहले 1999 विश्व कप में सौरव गांगुली की दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली 97 रनों की पारी, किसी भी भारतीय बल्लेबाज के 100वें वनडे में बनाए सर्वाधिक रन थे।

पहली पारी में बल्लेबाजी करते हुए भारत ने पहला विकेट जल्दी खो दिया। अपने फ्लॉप प्रदर्शन को जारी रखते हुए रोहित शर्मा केवल 5 रन बनाकर कगीसो रबाडा के शिकार बने। इसके बाद धवन ने कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर दूसरे विकेट के लिए 158 रनों साझेदारी बनाई। भारत को दूसरा झटका 32वें ओवर में लगा, जब विराट कोहली क्रिस मॉरिस के ओवर में बड़ा शॉट खेलने की कोशिश में कैच आउट हो गए। कोहली के आउट होने के बाद चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने अजिंक्य रहाणे मैदान पर आए। मॉरिस के अगले ओवर में धवन ने अपना शतक पूरा किया।

34.2 ओवर के बाद खेल को तेज बिजली की वजह से रोक दिया गया। करीबन एक घंटे के बाद अंपायरों में खेल दोबारा शुरू करने का ऐलान किया। खेल दोबारा शुरू होते ही भारत का तीसरा विकेट गिरा गया। 109 रन पर खेल रहे धवन मॉर्ने मॉर्केल की गेंद पर ड्राइव खेलने की कोशिश में एबी डी विलियर्स को मिड ऑफ आसान सा कैच थमा बैठे। इसके बाद सीरीज का अपना पहला मैच खेल रहे श्रेयस अय्यर बल्लेबाज करने उतरे। 37वें ओवर में रहाणे लुंगी एनगिडी के गेंद पर रबाडा को कैच दे बैठे। रहाणे के 8 रन बनाकर आउट होने के बाद महेंद्र सिंह धोनी मैदान पर उतरे।

धोनी और अय्यर के बीच 37 रनों की एक छोटी साझेदारी बनी। इस बीच अय्यर को एक जीवनदान भी मिला लेकिन 44वें ओवर में लुगी एनगिडी की गेंद पर बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में अय्यर कैच आउट हो गए। हार्दिक पांड्या भी कुछ खास नहीं कर सके और 9 रन बनाकर रबाडा की गेंद पर आउट हो गए, हालांकि पांड्या के विकेट का श्रेय एडेन मारक्रम को जाना चाहिए, जिन्होंने एक्सट्रा कवर पर शानदार कैच पकड़ा। धोनी की नाबाद 42 रनों की पारी की मदद से टीम इंडिया ने 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 289 रन बनाए।