© Getty
© Getty

श्रीलंका के खिलाफ धर्मशाला वनडे में एक तरफ से विकेटों का पतझड़ लगने के बावजूद एमएस धोनी ने दूसरे छोर पर नजरें गड़ाए रखीं और शानदार अंदाज में अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 16,000 रन पूरे किए। धोनी को इस मैच से पहले 16 हजार रन पूरे करने के लिए 17 रनों की दरकार थी। धोनी ने नुवान प्रदीप की गेंद पर चौका लगाते हुए ये रिकॉर्ड मुकम्मल किया। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भारत की ओर से 16,000 रन बनाने वाले धोनी छठवें बल्लेबाज हैं। उनके पहले यह कारनामा सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, सौरव गांगुली, वीरेंद्र सहवाग, विराट कोहली अपने नाम कर चुके हैं।

इसके अलावा वह यह कारनामा करने वाले दुनिया के 27 वें बल्लेबाज हैं। साथ ही दुनिया के दूसरे विकेटकीपर बल्लेबाज हैं जिन्होंने 16,000 अंतरराष्ट्रीय रन बनाए हैं। उनके पहले श्रीलंका के कुमार संगकारा यह रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके हैं। धोनी ने अपनी 483वीं पारी में ये रिकॉर्ड मुकम्मल किया है। धर्मशाला वनडे में टीम इंडिया की बल्लेबाजी ताश के पत्तों की तरह बिखर गई।

टीम इंडिया ने खबर लिखे जाने तक 80 रनों पर 8 विकेट गंवा दिए हैं। धोनी 33 रन बनाकर क्रीज पर हैं। एक समय टीम इंडिया ने 29 रनों पर 7 विकेट गंवा दिए थे। ऐसे में लग रहा था कि 50 के अंदर ही टीम इंडिया ऑलआउट हो जाएगी। लेकिन तभी कुलदीप यादव और एमएस धोनी जम गए और आठवें विकेट के लिए 41 रन जोड़ते हुए टीम इंडिया को 50 के पार ले गए। यादव 19 रन बनाकर आउट हुए। सुरंगा लकमल ने बेहतरीन गेंदबाजी की और 10 ओवरों में 13 रन देकर 4 विकेट झटके। उनके अलावा नुवान प्रदीप ने 26 रन देकर 2 विकेट, एंजलो मैथ्यूज ने 8 रन देकर 1 विकेट और अकिला दनंजय ने 6 रन देकर 1 विकेट लिया।