चामरा कपुगेदरा © AFP
चामरा कपुगेदरा © AFP

भारत और श्रीलंका के बीच पल्लेकेले में खेले गए तीसरे वनडे मैच को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। यह पता चला है कि तीसरे वनडे मैच में श्रीलंका टीम ने निश्चित किया था कि टॉस जीतने के बाद वह पहले फील्डिंग करने का फैसला करेंगे लेकिन कपुगेदरा ने टीम के निर्णय के खिलाफ जाते हुए खुद पहले बैटिंग करने का निर्णय ले लिया और आखिरकार उनकी टीम को हार का सामना करना पड़ा। इस संबंध में जल्दी ही श्रीलंका क्रिकेट कपुगेदरा को पूछताछ के लिए बुलाएगी।

गौरतलब है कि कपुगेदरा को तीसरे वनडे में निलंबित उपुल थरंगा की जगह एक अस्थायी कप्तान के रूप में नियुक्त किया गया था। तीसरे वनडे में जीत हासिल करना श्रीलंका के लिए बेहद जरूरी था ताकि वे सीरीज को जिंदा रख सकें। भारत ने इस दौरे में पूरे पांच टॉस जीते और मेजबान को हर विभाग में पस्त किया। पहले दो वनडे मैचों में विराट कोहली ने टॉस जीता और श्रीलंका को पहले बैटिंग करने के लिए आमंत्रित किया और श्रीलंका को बड़े अंतर से हार का सामना करना पड़ा।

मैच के एक दिन पहले, टीम मीटिंग में यह निश्चित किया गया कि टीम की मजबूती पर ध्यान देते हुए, स्कोर को चेज करना बढ़िया रहेगा। श्रीलंकाई क्रिकेट सपोर्ट स्टाफ के एक सदस्य ने क्रिकबज से बताया कि जैसे ही श्रीलंका ने टॉस जीता, गेंदबाजों ने अपनी पोशाक पहनना शुरू कर दी। लेकिन जब उन्हें पता चला कि कपुगेदरा ने पहले बैटिंग करने का निर्णय लिया है तो वे हैरान रह गए। [ये भी पढ़ें: कोलंबो वनडे: भारत के खिलाफ हारा श्रीलंका तो वर्ल्ड कप में नहीं मिलेगी ‘डायरेक्ट एंट्री’]

तीसरे वनडे में परिस्थितियां तेज गेंदबाजों के अनुकूल थीं इसलिए श्रीलंकाई बल्लेबाज जूझते नजर आए और आखिरकार 50 ओवरों में 217 रन ही बना सके। टीम इंडिया ने बड़ी आसानी से 6 विकेट से जीत दर्ज कर ली। इस बात से खफा श्रीलंकाई क्रिकेट फैंस ने मैदान पर ही बोतलें फेंकना शुरू कर दीं। इस मुद्दे की जांच बोर्ड करेगा। कपुगेदरा पीठ में चोटल लगने के कारण बाकी के दो वनडे मैचों से बाहर हो गए हैं।