दिनेश चांदीमल और एंजेलो मैथ्यूज © Getty Images (File Photo)
दिनेश चांदीमल और एंजेलो मैथ्यूज © Getty Images (File Photo)

भारत और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन लंच तक मेहमान टीम ने शानदार प्रदर्शन किया और इस सेशन में भारत को कोई भी विकेट नहीं लेने दिया। लंच तक एंजेलो मैथ्यूज (90) और कप्तान दिनेश चांदीमल (52) रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे हैं और टीम का  स्कोर 192/3 हो चुका है। श्रीलंका की टीम अभी भी भारत के पहली पारी के स्कोर (536/7) से 344 रन पीछे है। तीसरे दिन भारत का कोई भी गेंदबाज दोनों बल्लेबाजों पर अपना प्रभाव नहीं छोड़ सका। मैथ्यूज और चांदीमल ने सूझ-बूझ भरी बल्लेबाजी की और स्कोर को लगातार आगे बढ़ाया। मैथ्यूज धीरे-धीरे अपने शतक की तरफ बढ़ रहे हैं। तो वहीं, चांदीमल भी अर्धशतक लगा चुके हैं।

इससे पहले दूसरे दिन श्रीलंका ने दिन का खेल खत्म होने तक 3 विकोट के नुकसान पर 131 रन बना लिए थे। वहीं भारत ने अपनी पहली पारी 536/7 के स्कोर के साथ घोषित कर दी। उस समय साहा 9 और जडेजा 5 रन बनाकर क्रीज पर थे। भारत की ओर से विराट कोहली ने सबसे ज्यादा 243, मुरली विजय ने 155, और रोहित शर्मा ने 65 रन बनाए। श्रीलंका की ओर से लक्षन संदाकन ने सबसे ज्यादा 4, गमागे ने 2 और परेरा ने 1 विकेट झटका। कोहली ने लंच के थोड़ा पहले अपना छठवां दोहरा शतक जमाया। इस तरह से उन्होंने कप्तान के तौर पर ब्रायन लारा के 5 दोहरे शतकों के रिकॉर्ड को तोड़ डाला और नंबर 1 की कुर्सी हासिल कर ली।

एशेज सीरीज: ऑस्ट्रेलिया ने मैच में बनाई पकड़, टी तक इंग्लैंड का स्कोर 128/5
एशेज सीरीज: ऑस्ट्रेलिया ने मैच में बनाई पकड़, टी तक इंग्लैंड का स्कोर 128/5

दूसरे दिन लंच के बाद श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने मैदान में खराब हवा का हवाला देते हुए मैच कई बार रोका। इस वजह से टीम इंडिया के बल्लेबाजों का ध्यान बंटा और कोहली- अश्विन के रूप में उन्होंने दो विकेट भी गंवाए। इन दोनों के आउट होने के बाद फिर से श्रीलंका के खिलाड़ियों ने वही कारण देते हुए मैच रुकवा दिया। श्रीलंका के खिलाड़ियों की इस हरकत से पहले ही विराट कोहली खासे खफा थे। उन्होंने तो मैदान में बल्लेबाजी करते हुए बल्ला भी फेंक दिया था। लेकिन जब उन्होंने इसे तीसरी बार होते हुए देखा तो उन्होंने पारी को घोषित करना ही मुनासिब समझा। शायद इसलिए भी क्योंकि वह बताना चाहते थे कि आप चाहे इस माहौल में गेंदबाजी करें या न करें लेकिन हम करेंगे।