© IANS
© IANS

पल्लेकेले टेस्ट के तीसरे दिन भारत ने श्रीलंका को 1 पारी और 171 रनों से हराकर तीन टेस्ट मैचों की सीरीज 3-0 से अपने नाम कर ली। क्रिकेट इतिहास में यह पहला मौका है जब टीम इंडिया ने श्रीलंका का उसी की सरजमीं पर सूपड़ा साफ किया है। भारत ने इसके पहली कभी विदेशी सरजमीं पर व्हाइटवॉश नहीं किया, यह पहला मौका है जब टीम इंडिया को यह सौभाग्य प्राप्त हुआ है। रविचंद्रन अश्विन ने मैच में 6 विकेट लिए। इस तरह से उनके 52 टेस्ट मैचों में कुल 292 टेस्ट विकेट हो गए हैं। उन्होंने सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने के मामले में ऑस्ट्रेलिया के मैकडरमोट (291 विकेट) को पीछे छोड़ दिया है। वह अब दुनिया में सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में 32वें नंबर पर पहुंच गए हैं।

फॉलोआन खेलते हुए श्रीलंका की दूसरी पारी: पहली पारी के आधार पर 352 रनों से पिछड़ने के बाद फॉलोआन खेलने को उतरी श्रीलंका टीम दूसरी पारी में 181 रनों पर ऑलआउट हो गई। श्रीलंका की ओर से निरोशन डिकवेला ने सर्वाधिक 41 रन बनाए। उनके अलावा कप्तान दिनेश चंडीमल ने 36 और एंजलो मैथ्यूज ने 35 रन बनाए। भारत की ओर से रविचंद्रन अश्विन ने 4, मोहम्मद शमी ने 3, उमेश यादव ने 2 और कुलदीप यादव ने 1 विकेट लिया।

दूसरे दिन के स्कोर 19/1 से आगे खेलने उतरी श्रीलंका टीम को सुबह जल्दी झटके लगने शुरू हो गए। पहले दिमुथ करुणारत्ने 16 रन बनाकर अश्विन की गेंद पर रहाणे को कैच दे बैठे। बाद में मलिंडा पुष्पाकुमारा जो नाइट वॉचमैन के रूप में आए थे उन्हें मोहम्मद शमी ने साहा के हाथों झिलवा दिया। पुष्पाकुमारा ने 1 रन बनाया। इसके थोड़ी देर बाद कुसल मेंडिस को मोहम्मद शमी ने 12 रनों के व्यक्तिगत स्कोर पर एल्बीडब्ल्यू आउट कर दिया। इस तरह से श्रीलंका के 39 रनों पर चार विकेट गिर गए। इसके बाद कप्तान दिनेश चंडीमल ने एंजलो मैथ्यूज के साथ मिलकर पारी को संभलाा और मैदान के चारों तरफ स्ट्रोक खेले। [भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा टेस्ट, तीसरा दिन, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें]

दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 65 रन जोड़े और कुछ देर तक भारतीय गेंदबाजों को खामोश करने में भी सफल रहे। इसी बीच चंडीमल को कुलदीप यादव ने आउट कर दिया और यह खतरनाक नजर आ रही साझेदारी तोड़ दी। चंडीमल ने 36 रन बनाए। चंडीमल के आउट होने के चार ओवरों बाद एंजलो मैथ्यूज को रविचंद्रन अश्विन ने पगबाधा आउट कर दिया। मैथ्यूज ने 35 रन बनाए। इसके पहले कि श्रीलंका टीम संभल पाती अश्विन ने दिलरुवान परेरा को हार्दिक पांड्या के हाथों झिलवा दिया। परेरा ने 8 रन बनाए।

कुछ देर तक निरोशन डिकवेला ने पारी को संभाला लेकिन वह कब तक संभालते दूसरे छोर से विकेट गिरने का सिलसिला तो थम नहीं रहा था। लक्षम संदाकन को मोहम्मद शमी ने साहा के हाथों झिलवा दिया और श्रीलंका को आठवां झटका दे दिया। संदाकन ने 8 रन बनाए। अब पूरा दारोमदार निरोशन डिकवेला पर था। डिकवेला यह दबाव ज्यादा देर तक नहीं झेल पाए और उमेश यादव की गेंद पर अजिंक्य रहाणे को कैच दे बैठे। डिकवेला ने 41 रन बनाए। अंतिम विकेट के रूप में लाहिरू कुमारा आउट हुए। कुमारा को अश्विन ने बोल्ड कर दिया। कुमारा ने 8 रन बनाए।

श्रीलंका की पहली पारी: इससे पहले टीम इंडिया के पहली पारी में 487 रनों के जवाब में श्रीलंका पहली पारी में 135 रनों पर ऑलआउट हो गई। इस तरह पहली पारी के आधार पर टीम इंडिया ने श्रीलंका पर 352 रनों की विशाल बढ़त हासिल कर ली और श्रीलंका को फॉलोऑन खेलने के लिए मजबूर कर दिया। श्रीलंका की तरफ से सबसे ज्यादा रन दिनेश चंडीमल ने (48) बनाए। इसके अलावा श्रीलंका के 5 बल्लेबाज दोहरे अंक को भी नहीं छू सके। [भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा टेस्ट, तीसरा दिन, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें]

भारत की तरफ से कुलदीप यादव ने सबसे ज्यादा (4), मोहम्मद शमी और रविचंद्रन अश्विन ने 2-2 और हार्दिक पांड्या मे 1 विकेट हासिल किया। बल्लेबाजी करने उतरी श्रीलंका की टीम की शुरुआत बेहद खराब रही और टीम का पहला विकेट मात्र 14 रनों पर ही गिर गया। पहले विकेट के रूप में उपुल थरंगा (5) रन बनाकर आउट हुए। अभी टीम के स्कोर में 9 रन और जुड़े थे कि दिमुथ करुणारत्ने भी (4) रन बनाकर आउट हो गए।

श्रीलंका के विकेट गिरने का सिलसिला जारी रहा और 38 रनों पर टीम का तीसरा विकेट भी गिर गया। अभी स्कोर में एर भी रन का इजाफा नहीं हुआ था और 38 रनों पर ही टीम का चौथा विकेट गिर गया। इसके बाद दिनेश चंडीमल और निरोशन डिकवेला ने पारी को संभालने की कोशिश की और दोनों ने स्कोर को 100 के पार पहुंचा दिया। दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 63 रनों की साझेदारी की।

जब लग रहा था कि दोनों बल्लेबाज टीम को संकट से उबार देंगे तभी डिकवेला (29) रन बनाकर आउट हो गए। डिकवेला के आउट होते ही श्रीलंका के विकेट गिरने का सिलसिला फिर से शुरू हो गया और पूरी श्रीलंका की टीम 135 रनों पर ही ढेर हो गई। श्रीलंका की तरफ से सबसे ज्यादा चंडीमल (48) रन बनाए। भारत की तरफ से कुलदीप यादव ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए। वहीं रविचंद्रन अश्विन और मोहम्मद शमी को 2-2 विकेट मिले। हार्दिक पांड्या को भी 1 विकेट हासिल हुआ।

भारत की पहली पारी: इससे पहले शिखर धवन और हार्दिक पांड्या के शतक की बदौलत भारत ने 487 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। धवन ने 119 रन बनाए वहीं केएल राहुल ने भी 85 रनों की पारी खेली। हार्दिक पांड्या ने अपना पहला टेस्ट शतक शानदार अंदाज में महज 86 गेंदों में लगाया। उन्होंने इस दौरान 7 गगनचुंबी छक्के और 7 चौके लगाए। टेस्ट क्रिकेट इतिहास में यह भारत की ओर से लगाया गया पांचवां सबसे तेज शतक है। पांड्या ने अपना शतक चौका लगाकर पूरा किया। नंबर 8 पर बल्लेबाजी करते हुए भारत की ओर से टेस्ट में यह सबसे तेज शतक है। पांड्या आखिरी विकेट के रूप में 108 रन बनाकर आउट हुए।