© Getty Images
© Getty Images

भारत और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे तीसरे वनडे में श्रीलंकाई दर्शकों ने स्टेडियम में जमर हंगामा किया। अपनी टीम की हार तय दिखते ही प्रशंसकों ने स्टेडियम में हंगामा करना शुरू कर दिया और स्टेडियम में जमकर खाली बोतलें फेंकने लगे। हार से गुस्साए प्रशंसकों ने स्टेडियम में कई बातलें फेंकी और जमकर बवाल किया। हालात बेहद खराब हो गए और अंपायरों को मैच रोकना पड़ा। जब मैच रोका गया तो भारत का स्कोर 44 ओवर में 210/4 था और भारत को जीतने के लिए सिर्फ 8 रन चाहिए थे जबकि टीम के 6 विकेट बचे थे। मैच को लगभग आधे घंटे से भी ज्यादा देर तक रोका गया। हालांकि इस दौरान स्टेडियम को लगभग खाली कराने के बाद ही दोबारा मैच शुरू हो सका।

तीसरे वनडे में जब भारत जीत के बिल्कुल पास था और जीत लगभग तय हो गई थी तभी दर्शकों ने स्टेडियम में बोतल फेंकना शुरू कर दिया और इसके बाद मैच को रोकना पड़ गया। कई बार दर्शकों से ऐसा ना करने की अपील की गई लेकिन दर्शकों पर इसका कोई भी प्रभाव नहीं पड़ा। सुरक्षाकर्मियों को स्टेडियम में आना पड़ा और उन्होंने स्टेडियम का चक्कर लगाया। आखिर में जब स्टेडियम को आधे से ज्यादा खाली करा लिया गया उसके बाद ही मैच दोबारा शुरू हो सका और भारत ने मुकाबले को 6 विकेट से अपने नाम किया। [ये भी पढ़ें: भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा वनडे (लाइव ब्लॉग): भारत ने 6 विकेट से श्रीलंका को हरा सीरीज पर कब्जा किया]

भारत की तरफ से रोहित शर्मा ने शानदार शतक ठोका और भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई। रोहित ने (122*) रनों की पारी खेली। वहीं रोहित के अलावा महेंद्र सिंह धोनी ने भी रोहित का अच्छा साथ दिया और उन्होंने भी (61*) रनों की उपयोगी पारी खेली। क्रिकेट के खेल में ये कोई पहला मौका नहीं है जब मैच को दर्शकों के हंगामे की वजह से रोकना पड़ा है। इससे पहले हाल ही में भारत के कटक में भी मैच को दर्शकों के हंगामे के कारण रोकना पड़ा था। उस मैच में भी दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत की हार गुस्साए प्रशंसकों ने स्टेडियम में बोतलें फेंकनी शुरू कर दी थीं और जिसके बाद मैच को रोकना पड़ गया था। ऐसा ही नजारा कोलकाता के ईडन गार्डन में साल 1996 के विश्व कप के दौरान भी देखने को मिला था।