×

वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत के दूसरी कतार के खिलाड़ियों की होगी परीक्षा

भारतीय टीम वेस्टइंडीज पहुंच चुकी है। टीम यहां तीन वनडे इंटरनैशनल और पांच टी20 मुकाबले खेलेगी। भारतीय टीम की कमान शिखर धवन के हाथों में होगी। भारतकीय टीम ने वनडे सीरीज के लिए कई सीनियर खिलाड़ियों को आराम दिया है।

पोर्ट ऑफ स्पेन (त्रिनिदाद): शिखर धवन की अगुआई में वेस्टइंडीज के खिलाफ शुक्रवार से शुरू होने वाली तीन मैचों की वनडे इंटरनैशनल में भारत के दूसरी कतार में शामिल क्रिकेटरों की परीक्षा होगी।

यह सीरीज ऐसे समय में हो रही है जबकि द्विपक्षीय वनडे मैचों के आयोजन को लेकर चर्चा जोरों पर है। बेन स्टोक्स के अचानक वनडे से संन्यास लेने से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के व्यस्त कार्यक्रम विशेषकर द्विपक्षीय श्रृंखलाओं को लेकर चर्चा ने जोर पकड़ा है।

इंग्लैंड के इस ऑलराउंडर ने स्पष्ट किया है कि तीनों प्रारूप में नियमित रूप से खेलना असंभव है। ऐसे में टेस्ट और टी20 के बीच में फंसे वनडे क्रिकेट के लिए अपनी जगह बनाना मुश्किल होता जा रहा है।

वेस्टइंडीज फरवरी में तीन वनडे और इतने ही टी20 मैच खेलने के लिए भारत आया था और इन दोनों टीमों के बीच फिर से सीमित ओवरों की सीरीज हो रही है। इस साल टी-20 विश्व कप खेला जाना है और ऐसे में वन डे का महत्व थोड़ा कम हो गया है लेकिन चोटी के खिलाड़ियों को आराम दिया गया है। ऐसे में नए खिलाड़ियों को मौका मिलेगा। और वे खिलाड़ी इसमें अपनी छाप छोड़ना चाहेंगे।

केवल वनडे प्रारूप में खेल रहे धवन अपने करियर में दूसरी बार भारत की अगुवाई करेंगे क्योंकि नियमित कप्तान रोहित शर्मा को इस श्रृंखला के लिए विश्राम दिया गया है। उनके अलावा मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, ऋषभ पंत, हार्दिक पंड्या और विराट कोहली को भी विश्राम दिया गया है।

इंग्लैंड की सीरीज में पता चला अगर कोई खिलाड़ी नियमित रूप से शीर्ष स्तर पर नहीं खेलता तो उसके लिए काम आसान नहीं होता। अपने प्रदर्शन में निरंतरता रखने वाले धवन अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने से काफी पीछे रहे।

यह देखना दिलचस्प होगा कि सीरीज के पहले मैच में धवन के साथ कौन पारी का आगाज करता है। शुभमन गिल की टीम में वापसी हुई है। वह धवन के साथ दाएं और बाएं हाथ के बल्लेबाज का संयोजन बनाएंगे लेकिन टीम में शामिल अन्य खिलाड़ियों को भी पारी की शुरुआत करने का मौका मिल सकता है जिनमें ईशान किशन और रुतुराज गायकवाड़ शामिल हैं।

टीम प्रबंधन को मध्यक्रम में खिलाड़ियों का चयन करने के लिए थोड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी। बेहतरीन फॉर्म में चल रहे दीपक हुड्डा तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतर सकते हैं और सूर्यकुमार यादव का भी अंतिम एकादश में चयन तय है। ऐसे में टीम प्रबंधन को श्रेयस अय्यर और संजू सैमसन में किसी एक का चयन करने के लिए फैसला करना होगा।

अय्यर पर दबाव होगा क्योंकि इंग्लैंड के दौरे में शार्ट पिच गेंदों के सामने उनकी कमजोरी खुलकर सामने आई थी। हार्दिक की अनुपस्थिति में शार्दुल ठाकुर भारत की तरफ से तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर के विकल्प होंगे।

पिच से स्पिनरों को मदद मिलने की उम्मीद है और ऐसे में युजवेंद्र चहल और रविंद्र जडेजा तीनों मैचों में खेल सकते हैं। अक्षर पटेल तीसरे स्पिनर के रूप में विकल्प हैं।

पेट की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण इंग्लैंड में वनडे नहीं खेल पाने वाले तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह को शुक्रवार को वनडे में पदार्पण का मौका मिल सकता है क्योंकि गुरुवार को उन्हें नेट पर काफी गेंदबाजी करते हुए देखा गया। प्रसिद्ध कृष्णा और मोहम्मद सिराज मुख्य गेंदबाज के तौर पर अंतिम एकादश में रहेंगे।

वेस्टइंडीज का हाल का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। उसे बांग्लादेश के खिलाफ वनडे श्रृंखला में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा था। ऑलराउंडर जेसन होल्डर ने वापसी की है और इससे निकोलस पूरण की अगुवाई वाली टीम में संतुलन पैदा हुआ है।

कैरेबियाई टीम कुछ क्षेत्रों में सुधार करने की कोशिश करेगी जिनमें बल्लेबाजी भी शामिल है। हाल के मैचों में उसकी टीम अपने सभी 50 ओवर खेलने में नाकाम रही थी। विश्व कप 2019 के बाद 39 पारियों में से केवल छह पारियों में उसकी टीम सभी 50 ओवर खेल पाई थी और यह टीम के लिये चिंता का विषय है।

टीम इस प्रकार हैं:
भारत: शिखर धवन (कप्तान), रुतुराज गायकवाड़, शुभमन गिल, दीपक हुड्डा, सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर, ईशान किशन (विकेटकीपर), संजू सैमसन (विकेटकीपर), रविंद्र जडेजा (उप-कप्तान), शार्दुल ठाकुर, युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल, अवेश खान, प्रसिद्ध कृष्णा, मोहम्मद सिराज और अर्शदीप सिंह।

वेस्टइंडीज: निकोलस पूरण (कप्तान), शाई होप (उप-कप्तान), शमर ब्रूक्स, कीसी कार्टी, जेसन होल्डर, अकील हुसैन, अल्जारी जोसेफ, ब्रैंडन किंग, काइल मेयर्स, गुडकेश मोती, कीमो पॉल, रोवमैन पॉवेल और जेडन सील्स।

trending this week