India vs West Indies: India need to fix middle-order problem before world cup
KL Rahul's muddled role in white-ball cricket may impact his run in the Test series. @Getty Images

वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का चयन गुरुवार को किया जाना है। चयनकर्ताओं को कमजोर मानी जा रही विंडीज टीम के खिलाफ मिडिल ऑर्डर की परेशानी का हल तलाशना होगा। 21 अक्टूबर से पांच मैचों की वनडे सीरीज की शुरुआत होगी।

भारतीय टीम की ओपनिंग में रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी लगातार अच्छा खेल दिखा रही है। टीम की परेशानी है मिडिल ऑर्डर जिसको लेकर चयनकर्ता गुरुवार को चर्चा करेंगे। टीम में नंबर 4, 5 और 6 पर कोई भी नियमित बल्लेबाज नहीं है जो जिम्मेदारी उठा सके।

मिडिल ऑर्डर में आजमाए गए 10 बल्लेबाज

इंग्लैंड चैंपियंस ट्रॉफी में जो मध्यम क्रम में बल्लेबाजों का आजमाने का सिलसिला शुरू हुआ वो अब तक जारी है। महेंद्र सिंह धोनी, युवराज सिंह, अजिंक्य रहाणे, केएल राहुल, दिनेश कार्तिक, सुरेश रैना, मनीष पांडे, केदार जाधव, हार्दिक पंड्या और श्रेयस अय्यर को आजमाया जा चुका है। कोई भी अपनी जगह पक्की करने में कामयाब नहीं हो पाया है।

विश्व कप से पहले सुलझानी होगी पहेली

रोहित और शिखर की ओपनिंग जोड़ी बिल्कुल फिट दिख रही है। तीसरे नंबर पर कप्तान विराट कोहली शानदार बल्लेबाजी कर रहे हैं। मुश्किल चौथे नंबर की है तो यहां केएल राहुल की जगह बन सकती है। कप्तान ने राहुल पर भरोसा दिखाया है लिहाजा विश्व कप से पहले उनको कुछ और मौके दिए जा सकते हैं।

केदार जाधव अगर फिट रहते हैं तो विश्व कप में वह अहम भूमिका निभाएंगे। पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी के साथ गेंदबाजी कर टीम के लिए विकेट हासिल कर सकते हैं। सबकुछ ठीक रहा तो हार्दिक पांड्या विश्व कप टीम का हिस्सा जरूर होंगे लिहाजा उनको लेकर भी चयनकर्ताओं को बेहतर प्लान करना होगा। रिषभ पंत भी लगातार अच्छी बल्लेबाजी कर चयनकर्ताओं पर दबाब बना रहे हैं। विश्व कप से पहले पंत को वनडे में मौका दिया जा सकता है।

महेंद्र सिंह धोनी से करनी होगी बात

मिडिल ऑर्डर में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की जिम्मेदारी क्या होगी इसको लेकर चयनकर्ताओं को उनसे बात करनी होगी। धोनी उपर आकर पारी को बनाने का काम करना पसंद करेंगे या फिर नीचले क्रम में आक्रमक बल्लेबाजी कर मैच फिनिशर की भूमिका निभाना चाहेंगे।

विश्व कप 2019 का आयोजन 30 मई से 14 जुलाई तक इंग्लैंड में किया जाना है। टूर्नामेंट के आयोजन में ज्यादा वक्त नहीं रह गया है लिहाजा भारतीय टीम को जल्दी से जल्दी मिडिल ऑर्डर की परेशानी से निपटना होगा।