1983 में विश्व कप जीत के लिए भारत का नेतृत्व करने वाले क्रिकेट के दिग्गज कपिल देव (Kapil Dev) ने खिलाड़ियों को सबसे अच्छा बुनियादी ढांचा प्रदान करने पर जोर दिया है, ताकि वे आगे बढ़ सकें और देश के लिए पदक और खिताब जीत सकें. उन्होंने ये भी कहा कि सर्वोत्तम बुनियादी ढांचे के साथ, भारत हॉकी में अधिक ओलंपिक पदक जीत सकता है.

कपिल देव ने देश में खेल सुविधाओं को बढ़ाने की आवश्यकता के बारे में कहा, “एक देश के रूप में हमें पहले बुनियादी ढांचा देने की जरूरत है. अगर हमारे पास ये है, तो बच्चे अपनी पसंद के किसी भी खेल को चुनने के लिए स्वतंत्र होंगे. बढ़ी हुई सुविधाओं के परिणामस्वरूप क्रिकेट नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया है. हालांकि, अगर हम अन्य खेलों में भी ऐसा ही करते हैं, तो भारत किसी भी अन्य देश की तुलना में हॉकी में अधिक ओलंपिक पदक जीतेगा.”

शुक्रवार को यहां आयोजित शिखर सम्मेलन ने भारत की 75 साल की यात्रा, वर्तमान स्थिति और भविष्य की योजनाओं की जांच करने के लिए कई क्षेत्रों के कुछ बेहतरीन लोगों को एक मंच प्रदान किया गया. एबीपी नेटवर्क भारत का सबसे लोकप्रिय बहुभाषी समाचार चैनल है, जिसकी दर्शकों की संख्या 535 मिलियन है.

‘वी आर द चैंपियंस: पेशेंस, परसेवरेंस, प्रैक्टिस’ शीर्षक वाले सत्र में कपिल देव ने कहा कि पिछले चार दशकों में देश में खेलों को बढ़ावा देने की मानसिकता में बदलाव आया है.

उन्होंने आगे कहा, “सबसे महत्वपूर्ण बात जो मैं कहूंगा वो ये है कि मैंने पिछले 40 सालों में जो देखा है वो ये है कि आज माता-पिता अपने बच्चों को मैदान पर लाते हैं और कहते हैं कि ‘उन्हें एक खिलाड़ी बनाओ.’ हमारे समय में, किसी भी माता-पिता को अपने बच्चों को मैदान पर लाने का समय नहीं मिलता था. आज, वे हमारे पास आते हैं और पूछते हैं कि क्या वे आईपीएल खेल सकते हैं या क्या वे भारत के लिए खेल सकते हैं?”

कपिल देव के अलावा, सीजन में विश्व चैंपियन कांस्य पदक विजेता लंबी जम्पर अंजू बॉबी जॉर्ज, जो भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के उपाध्यक्ष भी हैं, ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम के सदस्य जफर इकबाल और 18 बार के ग्रैंड स्लैम चैंपियन लिएंडर पेस शामिल हुए थे.

एथलेटिक्स के लिए वैज्ञानिक समर्थन की कमी पर अंजू बॉबी जॉर्ज ने कहा, “अगर माता-पिता अपने बच्चों को भेजने के लिए तैयार नहीं हैं तो हम उनका समर्थन कैसे कर सकते हैं. इसलिए, ये पहले माता-पिता से आना चाहिए, और फिर वैज्ञानिक रूप से हमें इसे देखना होगा. बच्चा पर सबसे पहले, एक कोच की आंख होती है, इसलिए हम देख सकते हैं और हम बता सकते हैं कि वो प्रतिभाशाली है या नहीं. फिर हमें उनका वैज्ञानिक परीक्षण करना होगा और फिर हमें ये पहचानने की जरूरत है कि वो किस घटना में काफी अच्छे हैं.”

उन्होंने कहा, “मेरी अकादमी, अंजू बॉबी स्पोर्ट्स 16 बच्चों का पालन-पोषण कर रही है, जिसमें शैली सिंह भी शामिल है, जो वर्तमान में जूनियर स्तर पर दुनिया में दूसरे स्थान पर है. इसलिए, 2024 या 2028 में, मैं अपने छात्रों में से एक के पोडियम फिनिश की उम्मीद कर रहा हूं. “

चैंपियन मानसिकता पर बोलते हुए एकल में ओलंपिक कांस्य पदक विजेता और 18 बार के ग्रैंड स्लैम चैंपियन लिएंडर पेस ने कहा, “मुझे लगता है कि ज्यादातर लोग मानते हैं कि ओलंपिक पदक जीतना शारीरिक फिटनेस के बारे में है. मुझे लगता है कि ज्यादातर लोग मानते हैं कि विश्व कप जीतना तकनीक को लेकर है. लेकिन यह आपके दो अलग-अलग के बीच का अंतर है जो निर्धारित करता है कि आप जीतते हैं या हारते हैं. चैंपियंस के पास अपने पैरों पर सोचने की स्वाभाविक क्षमता है. मेरा जीत-हार का रिकॉर्ड यह दर्शाता है कि मैंने अब तक खेले गए 74.1 प्रतिशत मैच हारे हैं. हालांकि, आज, आपने 18 ग्रैंड स्लैम और एक ओलंपिक पदक जीता है.”