भारतीय क्रिकेट टीम के कोच का चयन होना है और खबर है कि इस बार कप्तान विराट कोहली की इसमें कोई भूमिका नहीं होने वाली। पूर्व कोच अनिल कुंबले से साथ अनबन के बाद उन्होंने रवि शास्त्री को टीम का कोच बनाने में अहम भूमिका निभाई थी।

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस से बताया, ”पिछली बार कप्तान (कोहली), ने पूर्व कोच अनिल कुंबल के साथ अपनी और टीम से जुड़ी परेशानियों को जाहिर किया था। नई चयन प्रकिया में नया कोच कौन चुना जाएगा इस मामले में उनकी कोई भूमिका नहीं होगी। इस मर्तबा हमारे कोच चयन समिति में कपिल देव हैं और वो उनकी (कोहली) बिल्कुल भी नहीं सुनने वाले हैं।”

पढ़ें:- COA के कोच नियुक्त में जल्दबाजी पर BCCI अधिकारियों ने उठाए सवाल

गौरतलब है कि साल 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान पूर्व कोच कुंबले और कप्तान कोहली के बीच के मतभेद खुलकर सामने आए थे। इसी वजह से कुंबले ने अपने पद से इस्तीफा दिया था। इसके बाद सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण वाली सलाहकार समिति ने कोच रवि शास्त्री का चयन किया था।

”स्टाफ भी चयन समिति द्वारा ही चुने जाएंगे। आमतौर पर हम मुख्य कोच को यह अनुमति देते हैं कि वह अपनी टीम (स्टाफ का चुनाव) तैयार करें। इस बार अगर मुख्य कोच का चुनाव स्टाफ को चुने जाने से पहले किया जाता है तो वह इस प्रकिया का हिस्सा बन सकते हैं।”

पढ़ें:- नया कोच चुनने में मदद करेगी कपिल के नेतृत्व वाली CAC

गौरतलब है कि पूर्व कप्तान कपिल की अध्यक्षता वाली समिति में पूर्व क्रिकेटर अंशुमान गायकवाड और शांता रंगास्वामी होंगे। बोर्ड को भारतीय टीम के मुख्य कोच, बल्लेबाजी कोच, गेंदबाजी कोच, फील्डिंग कोच, फीजियोथेरेपिस्ट, स्ट्रैंथ एंड कंडीशनिंग कोच और प्रशासनिक मैनेजर के पदों पर नियुक्ति करनी है।

इस बात की उम्मीद है कि 15 सितंबर से साउथ अफ्रीका के साथ भारत में खेली जाने वाली होम सीरीज से पहले कोच का चयन कर लिया जाएगा।