Indian top-order’s failures during chases in Tests
KL Rahul with Shikhar Dhawan (File Photo) © AFP

साउथम्‍पटन में भारत और इंग्‍लैंड के बीच सीरीज का चौथा मुकाबला खेला जा रहा है। मैच के चौथे दिन मेजबान इंग्‍लैंड ने भारत को जीत के लिए 245 रनों का लक्ष्‍य दिया है। भारतीय टीम टेस्‍ट क्रिकेट में केवल तीन बार 200 रन से ज्‍यादा का स्‍कोर ओवरसीज में चेज कर पाई है। टीम इंडिया अगर साउथम्‍पटन में जीत दर्ज करती है तो वो न सिर्फ चौथी बार ओवरसीज में ये कारनामा कर पाएगी, बल्कि मैच जीत के साथ सीरीज जीतने की उम्‍मीदें भी बरकरार रहेंगी।

22 रन पर गंवाए तीन विकेट

भारतीय टीम ने चौथी पारी में लक्ष्‍य का पीछा करने के दौरान महज 22 रन के स्‍कोर पर ही अपने शुरुआती तीन विकेट गंवा दिए। शिखर धवन 29 गेंद पर 17 रन बनाने के बाद आउट हुए तो केएल राहुल अपना खाता भी नहीं खोल पाए। चेतेश्‍वर पुजारा महज पांच रन बनाकर पवेलियन लौटे।

साउथम्‍पटन में भारतीय टॉप आॅडर बल्‍लेबाजी क्रम का फेल होना कोई पहली घटना नहीं है। भारतीय टीम द्वारा टेस्‍ट क्रिकेट में पिछली चार पारियों में लक्ष्‍य का पीछा करने के रिकॉर्ड पर नजर डाले तो पाएंगे कि चौथी पारी में हर बार टॉप तीन बल्‍लेबाज फ्लॉप रहे हैं।

बर्मिघम टेस्‍ट

बर्मिंघम टेस्‍ट की दूसरी पारी में सलामी बल्‍लेबाजी के लिए मुरली विजय 6(17) और शिखर धवन 13(24) आए तो तीसरे नंबर पर केएल राहुल 13(24) को मौका मिला। तीनों ही कुछ खास नहीं कर पाए और भारत के पहले तीन विकेट महज 46 रन के स्‍कोर पर गिर गए। भारत को इस मैच में 31 रनों से हार का सामना करना पड़ा।

सेंचुरियन टेस्‍ट

इससे पहले दक्षिण अफ्रीका दौरे पर सेंचुरियन में सीरीज के दूसरे टेस्‍ट के दौरान सलामी बल्‍लेबाज मुरली विजय ने नौ और केएल राहुल ने चार रन बनाए थे। वहीं, तीसरे नंबर पर खेलने आए चेतेश्‍वर पुजारा ने महज 18 रन का योगदान दिया था। भारत को इस मैच में 135 रनों से हार मिली थी।

केपटाउन टेस्‍ट

केपटाउन में टेस्‍ट सीरीज का पहला मुकाबला खेला गया। मैच की चौथी पारी के दौरान सलामी बल्‍लेबाज मुरली विजय ने 13 तो शिखर धवन ने 16 रन बनाए थे। तीसरे नंबर पर खेलने आए चेतेश्‍वर पुजारा ने चार रन बनाए थे। भारत को इस टेस्‍ट में 72 रनों से हार मिली थी।