भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने हाल ही में विश्वकप क्वालीफायर जीता है © Getty Images
भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने हाल ही में विश्वकप क्वालीफायर जीता है © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया में महिलाओं की पहली टी-20 लीग महिला बिग बैश लीग (डब्ल्यूबीबीएल) की सफलता को देखते हुए भारत में भी पहली बार महिला क्रिकेट लीग (डब्ल्यूसीएल) का आयोजन किया जाएगा। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च) पर देश की पहली महिला क्रिकेट लीग (डब्ल्यूसीएल) का उद्घाटन किया जाएगा। डब्ल्यूसीएल को महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने और पुरुष क्रिकेट के समान लोकप्रियता दिलाने के लक्ष्य के तौर पर देखा जा रहा है। लीग की संस्थापक पारुल जैन ने कहा, “यह जरूरी है कि आने वाली लड़कियां क्रिकेट को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने के विकल्प के तौर पर देखें। उम्मीद है डब्ल्यूसीएल टी-20 इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) और महिला बिग बैश लीग की तरह ही लोकप्रिय होगा।”

उन्होंने कहा, “यह भारत में महिला क्रिकेट को बढ़ावा देगी, जिसे आमतौर पर पुरुष क्रिकेट से कम अहमियत मिलती है।” उन्होंने कहा, “कई खेल पेशेवर लीग में उतर रहे हैं और देश में लोकप्रियता हासिल कर रहे हैं। ऐसे में यह समय है जब महिला क्रिकेट लीग को लाया जाए। इसमें हैरानी की बात नहीं है कि महिला क्रिकेट टीम को पुरुष टीम की अपेक्षा भारत में खेल संघों और प्रायोजकों की ओर से ज्यादा महत्व और अवसर नहीं मिलते।” [ये भी पढ़ें: भारत ने जीता आईसीसी महिला विश्व कप क्वालीफायर खिताब]

भारत की पहली महिला क्रिकेट कोच और द्रोणाचार्य अवार्ड विजेता सुनिता शर्मा ने डब्ल्यूसीएल शुरू करने को लेकर कहा, “भारतीय महिला क्रिकेट टीम के अस्तित्व में आए तीन दशक से ज्यादा का समय हो गया है। इस दौरान टीम ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई मैच जीते हैं, लेकिन महिला टीम को पुरुष टीम के बराबर पहचान नहीं मिली।” [ये भी पढ़ें: मिताली राज, हरमनप्रीत कौर आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष दस में]

उन्होंने कहा, “पुरुष क्रिकेट में 80-90 के दशक में काफी बदलाव आया। लेकिन हमारी रफ्तार सुस्त रही। मैं इस बात से खुश हूं कि महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए शुरुआत की जा चुकी है। उम्मीद है कि इससे हमें फायदा होगा।”