भारतीय महिला हॉकी टीम का ब्रिटेन में निराशाजनक प्रदर्शन
फोटो साभार newsx.com

भारतीय महिला हॉकी टीम की ओलम्पिक की तैयारी को झटका लगा है। टीम को सोमवार को ब्रिटेन के साथ पांच मैचों की श्रृंखला के अंतिम मैच में 0-7 से करारी हार झेलनी पड़ी। इसी के साथ भारतीय टीम यह श्रृंखला 0-5 से हार गई। 36 साल बाद ओलम्पिक में क्वालीफाई करने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम का इस श्रृंखला में प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा। टीम यहां एक भी मैच जीतने में कामयाब नहीं हो सकी।

श्रृंखला के अंतिम मैच में मेजबान ने मेहमान टीम पर शुरू से ही दबाव बनाए रखा। पहले क्वार्टर में 12वें मिनट में शोना मैक्लिन ने टीम के लिए पहला गोल किया। इसी क्वार्टर में ब्रिटेन को दो पेनाल्टी कॉर्नर मिले जिसे भारतीय रक्षापक्ति ने गोल में बदलने नहीं दिया।

दूसरे क्वार्टर में भी ब्रिटेन की टीम ने हमले जारी रखे और दो पेनाल्टी कॉर्नर हासिल किए, लेकिन भारतीय टीम ने उन्हें फिर गोल में बदलने से रोका। भारतीय टीम को भी हिसाब बराबर करने का मौका मिला लेकिन वह इसे भुना नहीं सकी।

जब लग रहा था कि भारतीय टीम वापसी करेगी, तभी सुसन्नाह टाउनसेंड ने 28वें मिनट में मिले पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदलकर स्कोर 2-0 कर दिया।

38वें मिनट में फिर मेजबान टीम को पेनाल्टी कॉर्नर मिला जिसे क्रिस्टा कुलेन ने गोल में तब्दील कर भारत की परेशानी को तीन गुना कर दिया।

ब्रिटेन ने 42वें मिनट में केट वॉल्श और 44वें मिनट में हेलेन वॉल्श के गोल की बदौलत स्कोर 5-0 कर भारत की वापसी के हर सपने को तोड़ दिया। अंतिम क्वार्टर में ब्रिटेन ने दो और गोल कर स्कोर 7-0 कर दिया।