भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के अनुभवी स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने बांग्लादेश के खिलाफ दो मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट मैच में गुरुवार को अपने नाम एक खास रिकॉर्ड दर्ज कर लिया है.

दस साल के बाद पाकिस्तान में लौटेगा टेस्ट क्रिकेट, दो मैचों की सीरीज खेलेगी श्रीलंका

इंदौर के होल्कर स्टेडियम में जारी इस टेस्ट मैच के तहत अश्विन ने घरेलू सरजमीं पर 250 टेस्ट विकेट पूरे कर लिए हैं. उन्होंने बांग्लादेश की पहली पारी में मेहमान टीम के कप्तान मोमिनुल (Mominul Haq) को बोल्ड कर ये उपलब्धि अपने नाम की. मोमिनुल 37 रन बनाकर आउट हुए. अश्विन घरेलू सरजमीं पर ये मुकाम हासिल करने वाले तीसरे भारतीय बन गए.

कुंबले और हरभजन हैं पहले और दूसरे नंबर पर

इससे पहले टीम इंडिया की ओर से दिग्गज  लेग स्पिनर अनिल कुंबले (Anil Kumble 350 विकेट) और ‘टर्बनेटर’ के नाम से मशहूर ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh 265 विकेट) ये कारनामा कर चुके हैं. अश्विन भारत की ओर से टेस्ट मैचों में ओवरऑल सर्वाधिक विकेट झटकने वाले गेंदबाजों की लिस्ट में चौथे स्थान पर हैं.

इंदौर टेस्ट में भारतीय गेंदबाजों का कहर, मुश्किल में बांग्लादेशी टीम

इस लिस्ट में अनिल कुंबले 619 विकेट के साथ टॉप पर हैं. दूसरे नंबर पर 1983 में भारत को वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले कप्तान कपिल देव (Kapil Dev 434 विकेट) है. इसके बाद हरभजन सिंह Harbhajan Singh (417) टेस्ट विकेट के साथ तीसरे वहीं अश्विन 358 विकेट के साथ चौथे नंबर पर हैं.

मुरलीधरन की बराबरी की

आर अश्विन ने घरेलू सरजमीं पर सबसे कम टेस्ट खेलकर 250 विकेट हासिल करने के मामले में श्रीलंका के दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) की बराबरी कर ली है. दोनों गेंदबाजों ने एक समान 42-42 टेस्ट में ये मुकाम हासिल किया है. अनिल कुंबले ने ये उपलब्धि 43 जबकि श्रीलंका के पूर्व स्पिनर रंगना हेराथ (Rangna Herath) ने 44 टेस्ट मैचों में ये कारनामा किया था.

दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन (Dale Steyn) ने 49 टेस्ट में जबकि हरभजन सिंह ने 51 टेस्ट मैचों में 250 विकेटों का आंकड़ा छुआ था.