Indw vs ausw pink ball test i was lucky with thay no ball on 80 says smriti mandhana 5016916
स्मृति मंधाना @IPL-BCCI

पिंक बॉल टेस्ट में भारत की ओर से शतक जड़ने वाली पहली महिला बल्लेबाजी बनी स्मृति मंधाना (Smriti Mandhana) ने कहा कि वह खुश हैं कि यह गौरव हासिल करने के लिए उन्हें किस्मत का भी साथ मिला. भारतीय टीम ने पहली बार गुलाबी गेंद से डे-नाइट टेस्ट मैच खेला है, जो उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कैराना ओवल, क्वींसलैंड में ड्रॉ के रूप में खत्म किया. इस मैच की पहली पारी में मंधाना शानदार शतक जड़कर भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचाया था

बाएं हाथ की इस स्टायलिश बल्लेबाज मंधाना ने 216 गेंदों में 127 रन बनाए थे, जिससे भारत ने पहली पारी 8 विकेट पर 377 पर घोषित की. उन्हें 80 के निजी स्कोर पर जीवनदान मिला था. एलिसे पेरी की गेंद पर बेथ मूनी ने उनका कैच लपका लेकिन यह गेंद नो बॉल थी.

टेस्ट के पहले दो दिन बारिश ने खलल डाला लेकिन पूरे मैच में भारत का दबदबा रहा. चार दिवसीय मैच के ड्रॉ होने के बाद मंधाना ने कहा, ’80 रन के स्कोर पर भाग्यशाली थी कि गेंद नो बॉल हो गई. इस बाद मेरे दिमाग में यह साफ हो गया था कि मुझे मौका मिला है और इस मौके को भुनाना है.’

मंधाना ने इस शतकीय पारी को अपने अब तक के करियर के शीर्ष तीन पारियों में से एक बताया. उन्होंने कहा, ‘यह निश्चित रूप से शीर्ष तीन पारी में से एक है. पहली बार दिन-रात्रि टेस्ट खेल रही हूं, वास्तव में खुश हूं कि मैंने टीम को अच्छी शुरुआत दी. पहले दिन के खेल के बाद मैं घबराहट महसूस कर रही थी.’

इस बल्लेबाज ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में भारत का प्रतिनिधित्व करना उनके लिए सौभाग्य की बात है. उन्होंने कहा, ‘सफेद कपड़े पहनना (टेस्ट क्रिकेट की ड्रेस) और मैदान में उतरना सबसे बड़ी बात है.

भारतीय महिला टीम अब सात अक्टूबर से शुरू हो रही तीन मैचों की टी20 सीरीज में ऑस्ट्रेलिया का सामना करेगी. मंधाना ने कहा, ‘हमारे पास टी20 सीरीज से सिर्फ तीन दिन का समय है. एक दिन आराम करने के बाद हम उसकी तैयारी शुरू करेंगे.’