अक्षर पटेल और ग्लेन मैक्सवेल © BCCI
अक्षर पटेल और ग्लेन मैक्सवेल © BCCI

आईपीएल-10 में किंग्स इलेवन पंजाब और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच खेले गए मुकाबले को पंजाब ने 14 रनों से अपने नाम कर लिया। इस जीत में पंजाब के ऑलराउंडर अक्षर पटेल का अहम योगदान रहा। अक्षर ने अपनी शानदार फील्डिंग के दम पर मैच का रुख पंजाब की तरफ मोड़ दिया। अक्षर ने पहले तो कोलकाता की तरफ से लगातार शानदार प्रदर्शन करते आ रहे रॉबिन उथप्पा का बेहतरीन कैच लपककर उन्हें पवेलियन भेजा। इसके बाद अक्षर ने क्रिस लिन को भी बेहतरीन तरीके से रन आउट कर पंजाब की जीत तय कर दी। आइए आपको विस्तार से बताते हैं कि कैसे अक्षर बने पंजाब की जीत के ‘हीरो’। ये भी पढ़ें: किंग्स इलेवन पंजाब की कोलकाता नाइट राइडर्स पर हैरतअंगेज जीत

शानदार शुरुआत मिलने के बाद कोलकाता की टीम पंजाब पर हावी नजर आ रही थी और लग रहा था कि पंजाब प्ले ऑफ की रेस से बाहर हो जाएगी। 9 ओवर तक कोलकाता का सिर्फ 1 ही विकेट गिरा था। हालांकि 10वें ओवर की तीसरी गेंद पर राहुल तेवतिया ने गंभीर को आउट कर दिया। गंभीर के आउट होने के बाद मोर्चा संभाला कोलकाता के संकटमोचक बनते जा रहे रॉबिन उथप्पा ने। उथप्पा ने आते ही राहुल तेवतिया की गेंद पर हवा में शॉट खेल दिया। बाउंड्री पर खड़े अक्षर ने बेहतरीन फील्डिंग का नमूना पेश करते हुए, पहले तो अपनी दाएं तरफ दौड़ लगाई और इसके बाद उन्होंने शानदार डाइव लगाकर गेंद को कैच कर लिया। अक्षर के इस बेहतरीन प्रयास ने हर किसी को चौंका दिया था। इस तरह अक्षर ने उथप्पा का बेहतरीन कैच पकड़कर उन्हें पवेलियन का रास्ता दिखाया।

मैच अभी भी कोलकाता के पक्ष में दिख रहा था और क्रिस लिन तेजी से रन बना रहे थे। लिन एकतरफा अंदाज में मैच का रुख पलटते दिख रहे थे। 18वें ओवर की दूसरी गेंद पर लिन ने गेंद को डीप मिड विकेट बाउंड्री पर खेल दिया और लिन ने पहला रन तेजी से पूरा किया, इसी बीच लिन ने ग्रैंडहोम को दूसरे रन के लिए भी बुलाया, लेकिन तब तक गेंद पर अक्षर ने तेजी से झपट्टा मार दिया था। अक्षर ने गेंद को पकड़ते ही बाउंड्री से ही विकेटकीपर के पास सीधा थ्रो किया। विकेटकीपर साहा ने कोई गलती ना करते हुए गेंद को विकेटों में मार दिया और लिन रन आउट हो गए। एक बार फिर से अक्षर ने शानदार फील्डिंग का मुजाहिरा पेश किया। इस विकेट के साथ ही साहा ने पंजाब की जीत तय कर दी थी। आपको बता दें पंजाब प्ले ऑफ में बने रहने के लिए को इस जीत की बहुत जरूरत थी।