रोहित शर्मा © AFP
रोहित शर्मा © AFP

राइजिंग पुणे सुपरजायंट और मुंबई इंडियंस के बीच खेले गए मुकाबले में पुणे ने मुंबई को रोमांचक मुकाबले में 3 रनों से हरा दिया। लेकिन इस मैच में एक विवाद ने सबका ध्यान अपनी तरफ खींचा। आखिरी ओवर में मुंबई इंडियंस को जीत के लिए 17 रन चाहिए थे और गेंदबाजी करा रहे थे जयदेव उनादकत। पहली गेंद पर हार्दिक पांड्या आउट हो गए, तो दूसरी गेंद पर रोहित शर्मा ने छक्का लगा दिया। लेकिन जब उनादकत तीसरी गेंद फेंक रहे थे, तो रोहित शर्मा ऑफ स्टंप की तरफ बढ़ गए। ये देख उनादकत ने गेंद को और ऑफ स्टंप की तरफ फेंक दिया, जिसको रोहित ने ये सोच कर छोड़ दिया कि गेंद वाइड है। लेकिन अंपायरिंग कर रहे एस रवि ने गेंद को वाइड नहीं दिया और फिर यहीं से शुरू हो गया विवाद।

गेंद को वाइड ना दिए जाने से रोहित शर्मा झल्ला उठे और अंपायर से बहस करने लगे। रोहित हाथ से इशारा करके साफ तौर पर कह रहे थे कि गेंद वाइड थी। रोहित को अंपायर से बहस करते देख स्क्वॉयर लेग में खड़े अंपायर ए आनंद को बीचबचाव करने आना पड़ा। इसकी अगली ही गेंद पर बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में रोहित शर्मा आउट हो गए और अंत में मुंबई मैच को 3 रनों से हार गया। हालांकि विवाद यहीं नहीं रुका और मैच के बाद कई खिलाड़ियों ने इसपर अपनी प्रतिक्रिया भी दी। मैच के बाद पुणे की तरफ से रहाणे और मुंबई की तरफ से हरभजन ने बयान दिया। आइए जानते हैं दोनों ने क्या कुछ कहा।

विवाद में रहाणे का पक्ष: अजिंक्य रहाणे ने कहा, ”मुझे लगता है कि अंपायर का फैसला सही था। क्योंकि बतौर बल्लेबाज जब आप ऑफ स्टंप की तरप जाते हैं तो उसके बाद ऑफ स्टंप के बाहर की जगह गेंदबाज की हो जाती है। हालांकि बतौर खिलाड़ी रोहित का बर्ताव आम था। एक खिलाड़ी के तौर पर, एक कप्तान के तौर पर जब मैच नजदीकी होता है तो इस तरह का बर्ताव आम होता है। कोई भी खिलाड़ी ऐसा जान-बूझकर नहीं करता। मुझे नहीं लगता कि उनके बर्ताव में कुछ गलत था, लेकिन अंपायर का फैसला हमारे लिए काफी अच्छा था। ये सब मैदान पर होता है और मैदान पर ही खत्म हो जाता है। लेकिन आपको अंपायर के फैसले का सम्मान करना चाहिए और रोहित ने जो कुछ भी किया वो स्वाभाविक था”

विवाद पर क्या बोले हरभजन: मैच के बाद मुंबई की तरफ से हरभजन ने कहा, ”रोहित ने अंपायर पर चिल्लाया नहीं था और ना ही पूछा था कि गेंद को वाइड क्यों नहीं दिया गया। वो सिर्फ ये जानना चाहते थे कि गेंद को वाइड दिए जाने के लिए उन्हें कहां खड़ा होना पड़ेगा। हालांकि मुझे नहीं पता कि वो गेंद वाइड थी या फिर नहीं। मुझे लगता है कि अगर बल्लेबाज के दोनों पैर ऑफ स्टंप की तरफ जाते हैं तो गेंदबाज को इसका फायदा दिया जाना चाहिए। लेकिन अगर बल्लेबाज का सिर्फ एक ही पैर ऑफ स्टंप की तरफ जाता है तो मुझे लगता है कि गेंद को वाइड करार दिया जाना चाहिए। लेकिन अंत में अंपायर ने जो भी निर्णय दिया हमें उसके साथ जाना चाहिए।” हालांकि बाद में अंपायर के साथ गलत बर्ताव करने के लिए रोहित शर्मा पर फाइन लगा और उनकी मैच फीस काटी गई।