गौतम गंभीर,ग्लेन मैक्सवेल © AFP
गौतम गंभीर,ग्लेन मैक्सवेल © AFP

आईपीएल के 11वें मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स के सामने किंग्स इलेवन पंजाब ने 171 रनों का लक्ष्य रखा है। किंग्स इलेवन पंजाब ने मनन वोहरा (28), कप्तान ग्लेन मैक्सवेल (25) और रिद्धिमान साहा(25), डेविड मिलर(28) की पारियों की बदौलत 20 ओवर में 170 रन बनाए। कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए तेज गेंदबाज उमेश यादव और सुनील नरेन ने शानदार गेंदबाजी की। उमेश यादव ने 33 रन देकर 4 विकेट लिए तो वहीं नरेन ने अपने 4 ओवर में सिर्फ 19 रन देकर एक विकेट लिया। ग्रैंडहोम और पीयूष चावला को एक-एक विकेट मिला।

पंजाब की बल्लेबाजी

कोलकाता के कप्तान गौतम गंभीर ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग का फैसला किया। जवाब में किंग्स इलेवन पंजाब ने अच्छी शुरुआत की। ओपनर हाशिम आमला और मनन वोहरा ने तेजी शुरुआत की, आमला ने ट्रेंट बोल्ट के पहले ही ओवर में दो चौके लगाकर अपने तेवर दिखा दिए। मनन वोहरा ने भी उमेश यादव की गेंद पर छक्का लगाकर अपने इरादे जाहिर किए। इन दोनों बल्लेबाजों ने सिर्फ 25 गेंद के अंदर किंग्स इलेवन पंजाब का स्कोर 50 रनों के पार पहुंचा दिया। हालांकि ये साझेदारी ज्यादा देर तक नहीं चल सकी और मनन वोहरा को पीयूष चावला ने 28 रनों पर पैवेलियन लौटा दिया। किंग्स इलेवन ने तीसरे नंबर पर ऑलराउंडर मार्कस स्टोयनिस को भेजा लेकिन उनका ये प्रयोग काम नहीं कर पाया। स्टोयनिस को सुनील नरेन ने 9 रन पर आउट कर दिया।  ये भी देखें-आईपीएल, मैच नंबर 11, कोलकाता नाइट राइडर्स और किंग्स इलेवन पंजाब का स्कोर कार्ड

दो विकेट गिरने के बाद कप्तान मैक्सवेल मैदान पर उतरे और उन्होंने आते ही गेंदबाजों की धुनाई शुरू कर दी। मैक्सवेल ने पीयूष चावला के ओवर में एक छक्का और दो चौके जमाए लेकिन पंजाब की तेजी टीम पर उस वक्त भारी पड़ गई जब 4 गेंदों के अंदर हाशिम आमला और कप्तान मैक्सवेल आउट हो गए और उसने 4 विकेट 98 रनों पर गंवा दिए। दो झटके लगने के बाद किंग्स इलेवन पंजाब को विकेटकीपर रिद्धिमान साहा और डेविड मिलर ने संभाला। दोनों ने अच्छी गेंदों को सम्मान दिया वहीं खराब गेंदों को बाउंड्री के बाहर भेजा। साहा-मिलर के बीच 32 गेंद में 57 रन की साझेदारी हुई और पंजाब की टीम बड़े स्कोर की ओर बढ़ने लगी। लेकिन 18वें ओवर में कोलकाता ने जबर्दस्त वापसी की , तेज गेंदबाज उमेश यादव ने अपनी रफ्तार से अपने एक ही ओवर में 3 विकेट लेकर पंजाब के बड़े स्कोर बनाने की उम्मीदों को झटका दे दिया और वो 170 रन ही बना सकी।