गौतम गंभीर और स्टीवन स्मिथ  © BCCI
गौतम गंभीर और स्टीवन स्मिथ © BCCI

राइजिंग पुणे सुपरजायंट को पुणे में कोलकाता के खिलाफ खेले गए मैच में सात विकेट से हार का सामना करना पड़ा। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए आरपीएस ने स्टीवन स्मिथ के नाबाद 51 और अजिंक्य रहाणे के 46 रनों की बदौलत 20 ओवरों में 5 विकेट पर 182 का स्कोर बनाया था। जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी कोलकाता नाइटराइडर्स ने रॉबिन उथप्पा के 47 गेंदों में 87 और गौतम गंभीर के 46 गेंदों में 62 रनों की बदौलत 18.1 ओवर में ही मैच 3 विकेट खोकर जीत लिया। लेकिन इस बीच सवाल खड़ा होता है कि आखिर आरपीएस मैच क्यों हारी?

तो इसका कारण कप्तान स्टीवन स्मिथ के द्वारा लिया गया एक लचर फैसला है। दरअसल, टॉस हारने के बाद स्टीवन स्मिथ ने जब टीम का ऐलान किया तो बताया कि कंधे में दर्द होने के कारण आज के मैच में उनके सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर बेन स्टोक्स नहीं खेल रहे हैं। इसीलिए उन्होंने फाफ डू प्लेसी को अंतिम एकादश में शामिल किया है। डू प्लेसी जो पिछले कुछ मैचों से आउट ऑफ फॉर्म चल रहे हैं, उन्हें इस मैच में बैंटिंग ही नहीं मिली। साथ ही वे गेंदबाजी तो कर नहीं सकते थे। चूंकि, कप्तान स्मिथ को बेन स्टोक्स की भरपाई गेंदबाजी विभाग में करनी चाहिए थी। वे लॉकी फर्ग्युसन को उनकी जगह खिला सकते थे। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और एक बचकाना फैसला लेते हुए डू प्लेसी को टीम में जगह दे दी। ये भी पढ़ें-आईपीएल 10, मैच 30, राइजिंग पुणे सुपरजायंट बनाम कोलकाता नाइट राइडर्स का स्कोरकार्ड

इसका खामियाजा टीम को भुगतना पड़ा जब गौतम गंभीर और रॉबिन उथप्पा ने आरपीएस के गेंदबाजी आक्रमण की बखिया उधेड़ दी। अगर बेन स्टोक्स फिट होते तो उनसे बढ़िया कोई विकल्प नहीं हो सकता था। लेकिन उनकी अुपस्थिति में किसी बल्लेबाज को टीम में जगह देना मुनासिब मालूम नहीं पड़ता। क्योंकि वैसे भी आरपीएस की बैटिंग लाइन- अप अच्छी खासी लंबी है। उन्हें जरूरत थी तो अपने अंतिम एकादश में एक धारदार गेंदबाज की जिसकी कमी, लॉकी पूरी कर सकते थे। जाहिर है कि आरपीएस टीम को एक अतिरिक्त गेंदबाज की कमी खूब खली।

इसके अलावा मैच में आरपीएस के खिलाड़ियों की फील्डिंग भी काफी खराब रही और उन्होंने कई कैच टपकाए। ये भी हार का एक कारण रहा। जाहिर है कि अगले मैचों में कप्तान स्मिथ इन दो बातों को संज्ञान में जरूर लेना चाहेंगे। तभी जाकर उनकी टीम की नैय्या पार हो सकती है। इस हार के बाद भी आरपीएस अंक तालिका में चौथे नंबर पर बरकरार है।