विराट कोहली © AFP
विराट कोहली © AFP

रॉयल चैंलेंजर्स बैंगलोर के लिए आईपीएल 2017 अबतक किसी बुरे सपने की तरह रहा है। जिस तरह से उनकी टीम खेल रही है उसे देखते हुए वह प्वाइंट टेबल में इस साल आखिरी टीम साबित हो सकते हैं। मौजूदा सीरीज में उनके मुख्य खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे। वहीं अन्य खिलाड़ी भी ताश के पत्तों की तरह ढह गए। टीम के कप्तान विराट कोहली का कहना है कि टीम ने अपनी कमियों को मानने और कमियों से सीखकर आगे बढ़ने का फैसला किया है।

बेंगलुरू में हुए एक प्रमोशनल ईवेंट में कोहली ने कहा, “जब आप अच्छा नहीं कर रहे होते तो निराश हो जाना और किसी पर अंगुली दिखाना आसान है लेकिन मुझे लगता है कि हमने जो हुआ उसे स्वीकार कर लिया है। हमने इस समय इसको हंसकर उड़ा देना चाहा। कुछ ऐसी मजबूर परिस्थितियां भी थीं कि हम चेंज रूम में हंसते हुए आए। हमने ये कभी नहीं सोचा था कि एक टीम के तौर पर हम ऐसा अनुभव करेंगे। ये इक्का- दुक्का खिलाड़ियों के साथ हो सकता है लेकिन अगर 11 खिलाड़ी एक जैसा अनुभव करें तो ये कभी- कभार देखने को मिलता है।”

कोहली जिन्होंने पिछले साल आईपीएल में रिकॉर्ड 973 रन बनाए थे और साथ ही 4 शतक भी लगाए थे। वह इस साल 9 मैचों में 250 रन ही बना पाए हैं। कोहली पहले तीन मैचों में कंधे में चोट के कारण नहीं खेल पाए थे। वहीं जैसे ही समय निकलता गया उनकी टीम जीत के रास्ते में नहीं लौट पाई।

साल 2008 के बाद से आरसीबी को आईपीएल में ऐसे दिन कभी नहीं देखने पड़े थे। इस सीजन में क्रिस गेल और एबी डीविलियर्स ने खासा निराश किया। शेन वॉटसन का कहना है कि यह उनका सबसे खराब आईपीएल सीजन है। कोहली का अगला लक्ष्य आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी है। जहां भारतीय टीम गत- विजेता है। कोहली जनवरी 2016 से बेहतरीन फॉर्म में थे। इस दौरान उन्होंने सभी टीमों और सभी फॉर्मेटों में रनों का अंबार लगाया था लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में कंधे में चोट लगने के बाद कोहली ने आईपीएल में वापसी मुंबई इंडियंस के खिलाफ अर्धशतक लगाकर की थी लेकिन अगले आठ मैचों में वह सिर्फ 2 और अर्धशतक लगा पाए।