विराट कोहली © AFP
विराट कोहली © AFP

गुजरात लायंस के खिलाफ 21 रनों से जीत हासिल करने के बाद विराट कोहली ने ऐसी बात कह दी जिससे उनपर हर भारतीय क्रिकेट फैन को नाज होगा। कंधे में चोट के चलते काफी समय तक मैदान से दूर रहने के बावजूद विराट कोहली को इसकी परवाह नहीं है। विराट कोहली का मानना है कि चोट के डर से वो मैदान पर अपने रवैये को नहीं बदल सकते।

विराट कोहली ने कहा ‘मेरे कंधे पर अभी भी पट्टियां बंधी हुई है। मुझे उसके बारे में सोचना बंद करना होगा क्योंकि ये मुझे रोकता है। मैदान पर आपके लिए रन रोकना बेहद अहम है, और अब चोट के बारे में मैं नहीं सोचता, मेरा कंधा बिलकुल ठीक है। जब रांची टेस्ट के दौरान मेरा कंधा चोटिल हुआ था तो लोगों ने मुझे कहा कि सिर्फ एक ही रन की तो बात थी लेकिन मैं चोट के डर से अपना रवैया नहीं बदल सकता मैंने हमेशा से ही ऐसा ही खेल खेला है।’

मैच के बाद कप्तान विराट कोहली ने 38 गेंद में 77 रन की पारी खेलने वाले और टी-20 में 10000 रन बनाने वाले बल्लेबाज क्रिस गेल की भी खासा तारीफ की। विराट ने कहा ‘गेल को ए बी डीविलियर्स के चोटिल होने के चलते मौका मिला और गेल ने इसका पूरा फायदा उठाया। अगर वो ऐसे ही खेलते रहे तो इससे मैं पूरी पारी तक क्रीज पर टिका रह सकता हूं और बाद में तेजी से रन बना सकता हूं। गेल आक्रामक रुख अख्तियार करते हैं और मैं अपना काम करता हूं, इसीलिए हमारी जोड़ी शानदार प्रदर्शन करती है।’ ये भी पढ़ें- गेल ने पहले 103 मीटर का छक्का लगाया, फिर रैना की टीम को बीच मैदान चिढ़ाया !

विराट कोहली ने लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल और पवन नेगी की भी खासा तारीफ की। विराट ने कहा ‘युजवेंद्र एक लेग स्पिनर हैं जो कि हमेशा खेल में बना रहता है लेकिन पवन नेगी तो जबर्दस्त गेंदबाजी की। बहुत ही कम लोग होते हैं जिन्हें खुद पर विश्वास होता है और पवन नेगी ने शानदार वापसी की है। युजवेंद्र चहल की खास बात ये है कि वो बेखौफ हैं और वो रन पड़ने के बावजूद डरते नहीं हैं। कभी कभी वो रन देते हैं लेकिन वो विकेट भी झटकते हैं। बल्लेबाजी के लिए अच्छी विकेट पर आपको ऐसे गेंदबाज की जरूरत होती है।’