IPL 2018: MS Dhoni reveals he is not training much because of back pain
दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ मैच में शॉट लगाते महेंद्र सिंह धोनी © IANS

चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान और भारत के सबसे पसंदीदा क्रिकेटरों में से एक महेंद्र सिंह धोनी इनदिनों आईपीएल में धमाल मचा रहे हैं। सीएसके की कप्तानी करते हुए धोनी तीन अर्धशतक जड़े चुके हैं। सोमवार को दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ मैच में धोनी ने तीसरा अर्धशतक बनाया। हालांकि मैच के दौरान धोनी एक बार फिर पीठ दर्द से परेशान दिखे। मैच के बाद इस बारे में बात करते हुए धोनी ने खुलासा किया कि वो पीठ दर्द की वजह से ज्यादा ट्रेंनिंग भी नहीं कर रहे हैं।

कैप्टन कूल ने कहा, “पीठ में दर्द है लेकिन इसे लेकर आप ज्यादा कुछ नहीं कर सकते क्योंकि मैचों के बीच में आराम का समय नहीं मिलता है। इसी वजह से मैं ज्यादा ट्रेनिंग भी नहीं कर रहा हूं। थोड़ा दर्द है लेकिन मैं फिर भी खेल लूंगा।” पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेले गए इस मैच में सीएसके टीम ने 13 रनों की जीत हासिल की।

आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन बनी हुई है टीम इंडिया
आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन बनी हुई है टीम इंडिया

मैच के बाद धोनी ने खिलाड़ियों की तारीफ की, उन्होंने कहा, “विकेट को देखकर हमे लगा कि हमे एक विदेशी बल्लेबाज की जरूरत है। मैने सोचा कि सैम को थोड़े आराम की जरूरत है, मध्यक्रम में फॉफ और रायुडू के रहने से हमे ज्यादा स्थिरता मिली और बल्लेबाजी क्रम और मजबूत लगने लगा। रायूडू कहीं भी बल्लेबाजी कर सकता है और वो टीम के लिए जिम्मेदारी लेने को तैयार है। हम चाहते थे कि तेज गेंदबाजी आगे आए। शार्दुल का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है, इसलिए कुछ मैचों का ब्रेक उसकी मदद करेगा। लुंगी का आगे आकर अच्छी गेंदबाजी करना हमारे लिए जरूरी था क्योंकि इस विकेट पर गति की जरूरत थी। दक्षिण अफ्रीका में ही उसने मुझे प्रभावित किया था। अगर वो लगातार अच्छा प्रदर्शन करता है तो हमें फायदा होगा।”

पुणे और बैंगलोर जैसे छोटे मैदानों पर रन बचाकर विकेट लेना गेंदबाजों के लिए मुश्किल हो जाता है। धोनी ने इस बारे में कहा, “हमें एलिमिनेटर और फाइनल मैच को ध्यान में रखना होगा, अगर हम वहां तक पहुंच सके तो। वो मैच छोटे मैदानों पर ही खेले जाएंगे। उस स्तर पर गलती की कोई गुंजाइश नहीं रहेगी। जो भी गलतियां हो रही हैं, उसे नजर में लाकर अभी काम करना होगा। कुल मिलाकर हम खुश हैं लेकिन ये ज्यादा अच्छा है कि आप जीतने के साथ सीखते भी हो। गेंदबाजों को स्थिति में खुद को ढालना होगा वर्ना हमे दूसरे विकल्प देखने होंगे।”

अपने बल्लेबाजी क्रम के बारे में बात करते हुए कप्तान ने कहा कि स्थिति के हिसाब से ही वो अपने आप को ऊपरी क्रम में भेजेंगे। धोनी ने कहा, “ये जरूरी है कि हमे अच्छी शुरुआत मिले और फिर मैं खुद को ऊपरी क्रम में भेज सकता हूं। अच्छी शुरुआत का मतलब हमेशा रन नहीं होता, इसका मतलब है कि हमे एक साझेदारी मिले। तब मैं 4 या 5 नंबर पर बल्लेबाजी कर सकता हूं और मेरे पीछे एक अतिरिक्त बल्लेबाज रहेगा। इसलिए मैं खतरा तभी उठाऊंगा जब जरूरत होगी। अगर आप बल्लेबाजी क्रम में बहुत नीचे खेलोगे तो आपको ये समझ नहीं आएगा कि किस गेंदबाज पर अटैक करें। आठवें या दसवें ओवर में जाना ज्यादा मजेदार होता है, जब गेंदबाज को नहीं पता होता कि आप कब बड़े शॉट के लिए जाएगे, उसे उलझाकर रखना मजेदार होता है।”