IPL 2019: Delhi Capitals will have to defeat Chennai Super Kings in qualifier-2 for first title win
shreyas iyer with shifane Rutherford @ BCCI

आईपीएल 2019 में बदले हुए नाम से उतरी दिल्ली फ्रेंचाइजी ने अपने प्रदर्शन से खुद के इतिहास में बड़ा बदलाव करते हुए सभी को हैरान किया है। इस साल छह सीजन बाद प्लेऑफ में पहुंचने वाली दिल्ली ने पहली बार अंतिम-4 में जीत हासिल की और अब पहली बार फाइनल में पहुंचने से एक कदम की दूरी पर है।

दिल्ली ने प्लेऑफ राउंड के एलिमिनेटर मुकाबले में पूर्व विजेता हैदराबाद को मात देते हुए क्वालीफायर-2 में जगह बनाई है जहां उसका सामना गत विजेता चेन्नई सुपर से शुक्रवार को डॉ. वाई राजशेखरेड्डी एसीए-वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम में होना है। आईपीएल के इतिहास की सबसे सफल टीमों में गिनी जाने वाली चेन्नई को क्वालीफायर-1 में तीन बार की विजेता मुंबई ने मात दी थी और फाइनल में प्रवेश किया। उस हार से हालांकि चेन्नई बाहर नहीं हुई। उसे क्वालीफायर-2 में फाइनल में जाने का एक और मौका मिल रहा है।

पढ़ें:- रिषभ पंत बोले- मैं शॉट मारते वक्‍त ये नहीं देखता कि सामने कौन गेंदबाजी पर है

महेंद्र सिंह धोनी की चेन्नई के लिए हालांकि यह दूसरा क्वालीफायर कांटे भरे रास्ते से कम नहीं होगा क्योंकि दिल्ली की टीम इस समय शानदार फॉर्म में हैं और लगातार अपने खेल में सुधार कर रही है। एलिमिनेटर मुकाबले में उसने हैदराबाद को जीत के करीब आने के बाद हार के लिए मजबूर कर दिया था। इसमें रिषभ पंत की अहम भूमिका रही थी जिन्होंने आखिरी के ओवरों में महज 21 गेंदों पर 49 रनों की पारी खेल टीम को जीत दिलाई।

पंत ने इस सीजन आखिरी ओवरों में कई ऐसी पारियां खेली हैं जिन्होंने दिल्ली की जीत का रास्ता खोला है। इस जीत में हालांकि सिर्फ पंत ही नहीं एक और युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ की 56 रनों की पारी भी अहम रही जिसने दिल्ली की जीत की नींव रखी थी। दिल्ली की बल्लेबाजी की खासियत यही रही है कि उसका कोई न कोई बल्लेबाज टीम के लिए स्कोर कर जाता है। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन तो इस सीजन बल्ले से जबरदस्त फॉर्म में हैं। वहीं कप्तान श्रेयस अय्यर ने भी कई अच्छा पारियां खेली हैं।

पढ़ें:- मैं थोड़ा नर्वस था, लेकिन पोंटिंग और सौरव सर ने मुझमें विश्‍वास जगाया: पृथ्‍वी शॉ

बीते मैच में हालांकि यह दोनों चले नहीं थे तो उनकी भरपाई पंत और शॉ ने कर दी थी। इन चारों के अलावा दिल्ली के पास कॉलिन मुनरो, कॉलिन इनग्राम, शेरफेन रदरफोर्ड जैसे बल्लेबाज है। गेंदबाजी में दिल्ली के पास ट्रेंट बोल्‍ट, इशांत शर्मा जैसे तेज गेंदबाज हैं। बोल्‍ट पिछले मैच में महंगे साबित हुए थे और 12.33 की औसत से रन लुटाए थे लेकिन इशांत ने किफायती गेंदबाजी की थी। उन्होंने चार ओवरों में 8.50 की औसत से सिर्फ 34 रन दिए थे और दो विकेट हासिल किए थे। कीमो पॉल ने मौके का पूरा फायदा उठाया था और तीन सफलताएं अर्जित की थीं।

पढ़ें:- जीत के बाद कप्‍तान अय्यर श्रेयस बोले- अंतिम दो ओवर नर्क के समान थे

स्पिन में अमित मिश्रा, अक्षर पटेल जैसे दो अनुभवी स्पिनर दिल्ली के पास हैं। वहीं, अगर चेन्नई की बात की जाए तो उसकी समस्या पावरप्ले में तेजी से रन नहीं बना पाना है। टीम के कोच स्टीफन फ्लेमिंग ने भी पहले क्वालीफायर के बाद इस बात को कबूल किया था। धोनी और उनकी टीम के लिए यह एक चुनौती बन गई है। इसका एक बड़ा कारण शेन वॉटसन का फॉर्म में नहीं होना है। पिछले सीजन जब चेन्नई ने वापसी करते हुए खिताब जीता था तब वॉटसन ने कमाल की बल्लेबाजी की थी लेकिन इस सीजन वह विफल रहे हैं।

VIDEO: दिल्‍ली ने हैदराबाद को किया बाहर, फाइनल के लिए चेन्‍नई से भिड़ेगी

फाफ डु प्लेसिस का बल्ला चला है लेकिन निरंतरता नहीं रही है। सुरेश रैना के साथ भी यह दिक्कत रही है। केदार जाधव के जाने के बाद पूरा भार अब अंबाती रायडू और कप्तान धोनी के जिम्मे आ गया है। गेंदबाजी में लेग स्पिनर इमरान ताहिर अच्छा कर रहे हैं। ताहिर ने अभी तक लीग में 23 विकेट लिए हैं और इस सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वालों की सूची में दूसरे स्थान पर खड़े हैं। स्पिन में टीम के पास हरभजन सिंह और रवींद्र जडेजा के रूप में दो और अच्छे विकल्प हैं। तेज गेंदबाजी की बात की जाए तो धोनी को दीपक चाहर के ऊपर काफी भरोसा है।

संभावित टीमें

चेन्नई : महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान और विकेटकीपर), अंबाती रायडू, शेन वॉटसन, सुरेश रैना, केदार जाधव, रवींद्र जडेजा, ड्वेन ब्रावो, दीपक चहर, शार्दुल ठाकुर, हरभजन सिंह, इमरान ताहिर, मुरली विजय, ध्रुव शौरे, फाफ डु प्लेसिस, ऋतुराज गायकवाड़, मिचेल सैंटनर, डेविड विली, सैम बिलिंग्स, समीर, मोनू कुमार, कर्ण शर्मा, केएम आसिफ, मोहित शर्मा।

दिल्ली : श्रेयस अय्यर (कप्तान), रिषभ पंत (विकेटकीपर), पृथ्वी शॉ, अमित मिश्रा, अवेश खान, राहुल तेवतिया, जयंत यादव, कॉलिन मुनरो, क्रिस मौरिस, संदीप लामिछाने, ट्रेंट बोल्‍ट, शिखर धवन, हनुमा विहारी, अक्षर पटेल, इशांत शर्मा, अंकुश बैंस, नाथू सिंह, कॉलिन इंग्राम, शेरफेन रदरफोर्ड।