IPL 2019 Eliminator, DC vs SRH, (preview): Delhi Capital won’t take Sunrisers Hyderabad lightly
Delhi Capitals @ BCCI

छह साल के लंबे इंतजार के बाद आईपीएल के 12वें सीजन में जगह बनाने वाली दिल्ली बुधवार को एलिमिनेटर मुकाबले में हैदराबाद से भिड़ेगी। एलिमिनेटर जीतने वाली टीम हालांकि सीधे फाइनल में नहीं पहुंचेगी। खिताबी मुकाबले में जाने के लिए उसे क्वालीफायर-2 में पहले क्वालीफायर में हारने वाली टीम के खिलाफ जीत हासिल करनी होगी।

दिल्ली का इस सीजन का प्रदर्शन बेहद शानदार रहा है। अपनी ख्याति की काया पलट कर दिल्ली ने अपने आप को खिताबी रेस में बनाए रखा और अब वह पहली बार फाइनल में जाने से सिर्फ दो कदम दूर है। इसमें पहली रुकावट हैदराबाद है जो बीते वर्षो में लगातार दमदार खेल से खिताब की दावेदार के रूप में देखी जाती रही है।

पढ़ें:- दिल्ली के कप्तान अय्यर ने कहा, हमारी कोशिश इतिहास बनाने की होगी

दिल्ली के लिए अधिकतर खिलाड़ियों का प्लेऑफ में खेलने का अनुभव नहीं है, ऐसे में बड़े मैच में दबाव से दिल्ली को पहले निपटना होगा। टीम की सबसे अच्छी बात यह रही है कि टीम संतुलित है। बल्लेबाजी और गेंदबाजी के अलावा फील्डिंग में टीम ने अच्छा किया है। दिल्ली के लिए सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने निरंतरता दिखाते हुए खूब रन बटोरे हैं। धवन ऐसे खिलाड़ी हैं जो हैदराबाद के लिए खिताब जीत चुके हैं। बड़े मैचों में उनका अनुभव और मौजूदा फॉर्म दिल्ली को मजबूत करेगी।

युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ और रिषभ पंत टुकड़ों में अच्छा कर रहे हैं। वहीं, कप्तान श्रेयस अय्यर का बल्ला भी लगातार रन कर रहा है। इन सभी ने दिल्ली की बल्लेबाजी को मजबूत बनाया है तो वहीं कॉलिन इनग्राम, क्रिस मॉरिस औरशेरफेन रदरफोर्ड ने अंतिम ओवरों में कई मौकों पर टीम को तेजी से रन बनाकर दिए हैं।

हां, गेंदबाजी में कगीसो रबाडा का जाना दिल्ली के लिए बुरी खबर रही है। अपने आखिरी लीग मैचों में दिल्ली रबाडा के बिना उतरी थी। टीम के कोच रिकी पोंटिंग ने कहा था कि ट्रेंट बोल्‍ट में रबाडा की कमी पूरी करने की काबिलियत है, लेकिन परेशानी यह है कि बोल्‍ट शुरुआती ओवरों में कारगार साबित होते हैं लेकिन अंतिम ओवरों में वो कई बार राह भटक जाते हैं। दिल्ली के पास इशांत शर्मा जैसे अनुभवी गेंदबाज भी हैं।

पढ़ें:- अंपायर नाइजल लाॅन्‍ग मामले में COA को मिली रिपोर्ट, कार्रवाई संभव

स्पिन में अमित मिश्रा ने बेहतरीन किया है और दूसरे छोर पर संदीप लामिछाने उनका अच्छा साथ देने की काबिलियत रखते हैं। मुश्किलें हैदराबाद के सामने भी कम नहीं हैं। जॉनी बेयरस्टो और डेविड वार्नर की सालमी जोड़ी के जाने के बाद उसकी बल्लेबाजी कमजोर हुई है, इसमें कोई दो राय नहीं है। रिद्धिमान साहा और मार्टिन गुप्टिल की नई जोड़ी ने कुछ हद तक इन दोनों की भरपाई करने की कोशिश की लेकिन ज्यादा मैच न खेलने की कमी बड़े मैच में दिक्कत दे सकती है।

कप्तान केन विलियम्सन और मनीष पांडे ने लीग के दूसरे हॉफ में अपनी बल्लेबाजी का जौहर दिखाया है और मध्यक्रम में अगर यह दोनों चलते हैं तो पूर्व विजेता के लिए काफी चीजें आसान हो सकती है, लेकिन अगर विफल रहे तो नैया भी डूब सकती है। गेंदबाजी में हैदराबाद के पास अच्छा संयोजन है। भुवनेश्वर कुमार बेशक इस सीजन में निरंतर नहीं रहे हैं हो लेकिन उनकी काबिलियत किसी भी टीम को उन्हें हल्के में लेने की मंजूरी नहीं देती है। खलील अहमद ने बीते कुछ मैचों में दमदार प्रदर्शन किया है।वहीं, राशिद खान के रूप में हैदराबाद के पास मजबूत गेंदबाज है और दूसरे छोर पर उनका साथ देने के लिए उन्हीं के हमवतन मोहम्मद नबी हैं।

पढ़ें:- सचिन, लक्ष्‍मण और साैरव को नोटिस COA की बड़ी गलती: बीसीसीआई

दिल्ली : श्रेयस अय्यर (कप्तान), रिषभ पंत (विकेटकीपर), पृथ्वी शॉ, अमित मिश्रा, अवेश खान, राहुल तेवतिया, जयंत यादव, कॉलिन मुनरो, क्रिस मॉरिस, संदीप लामिछाने, ट्रेंट बोल्‍ट, शिखर धवन, हनुमा विहारी, अक्षर पटेल, ईशांत शर्मा, अंकुश बैंस, नाथू सिंह, कॉलिन इंग्राम, शेरफेन रदरफोर्ड।

हैदराबाद : केन विलियमसन (कप्तान) भुवनेश्वर कुमार, अभिषेक शर्मा, खलील अहमद, रिकी भुई, बासिल थम्पी, श्रीवत्स गोस्वामी, मार्टिन गुप्टिल, दीपक हुड्डा, सिद्धार्थ कौल, मोहम्मद नबी, शहबाज नदीम, टी. नटराजन, मनीष पांडे, यूसुफ पठान, राशिद खान, रिद्धिमान साहा, संदीप शर्मा, विजय शंकर और बिली स्टानलेक।