IPL 2019: KXIP co-owner Mohit Burman says It’s Ness Wadia’s sentencing over drug possession a personal matter
Ness Wadia @IANS

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की टीम किंग्स इलेवन पंजाब के मालिक मोहित बर्मन ने रविवार को कहा है कि नेस वाडिया का जापान में ड्रग्स के साथ पकड़ा जाना उनका व्यक्गित मामला है और इससे फ्रेंचाइजी का कोई लेना देना नहीं है।

बर्मन के पास फ्रेंचाइजी में ज्यादा शेयर हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब टीम वाडिया की सजा को अलग रखते हुए अपनी सफाई पेश करेगी।

उन्होंने कहा, “हां, हम अपना जवाब भेजेंगे, लेकिन यह दोनों अलग चीजें हैं। इसको लेकर इस समय मालिकाना हक पर चर्चा करने की कोई जरूरत नहीं है। वह अपने निजी जीवन में जो करते हैं उसका टीम से कोई लेना-देना नहीं है। यह आईपीएल के दौरान नहीं हुआ था और न ही हमारे देश में हुआ था। इसलिए यह निजी मुद्दा है।”

पढ़ें:- नेस वाडिया की हरकत से निलंबित हो सकती है किंग्स इलेवन पंजाब

उन्होंने कहा, “जहां तक हमारी बात है हम निश्चित तौर पर बीसीसीआई को जवाब देंगे, लेकिन जहां तक मेरी सोच है, मुझे लगता है कि निर्देशक अपने व्यक्गित जीवन में जो भी करे उसका फ्रेंचाइजी से कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने आईपीएल से दो महीने पहले अपने निजी जीवन में जो किया उसका किंग्स इलेवन पंजाब से कोई मतलब नहीं है।”

उन्होंने कहा, “यह व्यक्गित मामला है। इसका फ्रेंचाइजी से कोई लेना-देना नहीं है। हम एक पेशेवर फ्रेंचाइजी हैं जो पेशेवर सीईओ और सीएफओ, पेशेवर कोच, कप्तान के साथ काम करती हैं। इसलिए एक निर्देशक की निजी जिदगी में क्या होता है उसका कोई असर टीम पर नहीं पड़ना चाहिए।”

पढ़ें:- नेस वाडिया मामले पर नजर रखेगा आईपीएल प्रबंधन

आईपीएल के संचालन नियमों के क्लॉज 14 के सेक्शन 2 के मुताबिक, संचालन नियमों में शामिल प्रत्येक व्यक्ति मैच के दौरान या उससे इतर, ऐसी कोई हरकत नहीं कर सकता जिससे किसी भी टीम फ्रेंचाइजी, खिलाड़ी, टीम अधिकारी, बीसीसीआई, लीग या खेल को इज्जत दांव पर लगे।

नियम में लिखा गया है कि टीम या फ्रेंचाइजी का सदस्य अगर नियमों का उल्लंघन करता है तो लोकपाल या समिति उस टीम या फ्रेंचाइजी को प्रतिबंधित कर सकती है।

नियम कहता है कि मामले को पहले कमिशन के पास भेजना चाहिए और फिर जांच के बाद कमिशन उसे बीसीसीआई लोकपाल के पास भेजेगा।

जापान की अदालत ने 30 अप्रैल को वाडिया को ड्रग्स रखने के कारण दो साल की सजा सुनाई थी। अदालत ने हालांकि पांच साल की सजा को खारिज कर दिया था जिसका मतलब है कि वाडिया को यह सजा तब दी जाएगी जब वह जापान में दोबारा नियम तोड़ेंगे।