IPL 2020: Bowling with a clear mind is my biggest strength, says Rashid Khan
राशिद खान (AFP)

इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में लगातार बल्लेबाजों को चकमा दे रहे अफगानिस्तान के लेग स्पिनर राशिद खान ने अपनी सफलता का श्रेय स्पष्ट दिमाग से गेंदबाजी करने की क्षमता को दिया।

मंगलवार को दिल्ली के खिलाफ नॉकआउट मुकाबले में राशिद ने चार ओवर में मात्र 7 रन देकर तीन विकेट हासिल किए और हैदराबाद को 88 विकेट से जीत दिलाकर प्लेऑफ की उम्मीदें बरकरार रखीं।

मैच के बाद उन्होंने कहा, “मेरा दिमाग एकदम स्पष्ट है, यही मेरी सबसे बड़ी ताकत है। मैं अच्छी लाइन और लेंथ पर गेंदबाजी करना चाहता हूं, चाहे जो भी स्थिति हो। आपको बल्लेबाद के दिमाग के साथ खेलना होता है और देखना होगा कि उसकी ताकत और कमजोरी कहां है। इसलिए मैं ये सारी चीजें ध्यान में रखता हूं।”

उन्होंने कहा, “मैच जीतना सबसे अहम होता है। विकेट से काफी मदद मिल रही थी। मेरा पूरा ध्यान किफायती गेंदबाजी करने पर है, चाहे विकेट मिलें या ना मिलें। डॉट गेंदो से मुझे भी विकेट लेने में मदद मिलती है और दूसरे छोर पर भी विकेट गिरते हैं।”

MI vs RCB: बैंगलोर के खिलाफ मैच से पहले बुमराह बोले- हम नहीं करेंगे ये काम

मैच के बाद कप्तान डेविड वार्नर ने भी राशिद को जमकर सराहा। उन्होंने कहा, “इससे पहले वाले मैच में हमने लक्ष्य का पीछा करते हुए निराशाजनक प्रदर्शन किया था। हमने पिछले मैच में रनों का पीछा किया था और दो विश्व स्तरीय गेंदबाजों रबाडा और नॉर्टजे के रहते हमने पहले खेलने का फैसला किया।”

अपनी बल्लेबाजी के बारे में उन्होंने कहा, “मैं 2009 में पीछे गया और अपने फ्रंट लेग को थोड़ा खोला। मैं शीर्ष क्रम में जिम्मेदारी उठाई और गेंदबाजों के पीछे गया। इस तरह के हालात में परंपरागत क्रिकेट खेलना मुश्किल है, इसलिए मैंने 360 डिग्री में खेला।”

दुबई में खेले गए मैच में वार्नर ने जहां 34 गेंदो पर 66 रन बनाए, वहीं जॉनी बेयरस्टो को जगह प्लेइंग इलेवन में आए ऋद्धिमान साहा ने भी 45 गेंदो पर 87 रनों की धमाकेदार पारी खेली।

वार्नर ने माना कि बेयरस्टो की जगह साहा को मौका देने का फैसला मुश्किल था लेकिन उन्हें इसका फायदा मिला। उन्होंने कहा, “साहा की पारी शानदार थी और पावरप्ले में उनका स्ट्राइक रेट बेहतरीन रहा। दुर्भाग्य से उन्हें ग्रोइन इंजरी हो गई लेकिन उम्मीद है कि कुछ गंभीर नहीं है।”

दिल्ली के खिलाफ जीत के बाद हैदराबाद प्लेऑफ की दौड़ में बनी हुई लेकिन उनके लिए आगे का सफर बेहद मुश्किल होने वाला है।