पिछले कुछ सालों में भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohamad Shami) ने क्रिकेट जगत में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) के गेंदबाजी कोच चार्ल्स लैंगवेल्ड्ट का कहना है कि बाकियों से अलग स्तर की मेहनत करना ही शमी की सफलता का सबसे बड़ा कारण है।

पूर्व दक्षिण अफ्रीका क्रिकेटक लैंगवेल्ड्ट ने दुबई से आईएएनएस से बात करते हुए कहा, “उनका काम करने का तरीका, इसने मुझे काफी प्रभावित किया है। पहले दिन से वो टीम में ऊर्जा लेकर आए हैं।”

उन्होंने कहा, “ट्रेनिंग की जब बात आती है तब वो पैमाने सेट करते हैं। मेरे लिए ये काफी अहम रहा है। ट्रेनिंग की जहां तक बात आती है वो अलग ही हैं। किसी तरह की शिकायत नहीं। वो अपने काम का बोझ बहुत अच्छे से संभालते हैं। वो अपनी ही गेंदबाजी की समीक्षा कर सकते हैं। मुझे लगता है कि उनका काम करने का तरीका युवाओं में उनके आदर्श बनाता है।”

शमी ने कुछ दिन पहले ही आईएएनएस से कहा था कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की गर्मी भरी स्थिति में वर्कलोड मैनेजमेंट काफी अहम होगा। लैंगवेल्ड्ट ने कहा, “यहां की गर्मी अब सहने लायक है। हमारे एक या दो अभ्यास सीजन रहे हैं जो चुनौतीपूर्ण रहे। अब यहां तापमान में कमी आई है, लेकिन ज्यादा नहीं।”

उन्होंने कहा, “हमारे लिए अहम है कि हम वर्कलोड को अच्छे से मैनेज करें। इस तरह के टूर्नामेंट में एक गेंदबाज आमतौर पर एक सप्ताह में 80 से 120 गेंदें करता है। अगर वो इससे ज्यादा जाता है तो यह चिंता का विषय है, इसलिए हम कोशिश करते हैं और मॉनीटर करते हैं कि वो एक सप्ताह में कितनी गेंद कर रहे हैं। हमारे पास अच्छे फिटनेस ट्रेनर हैं। वह हमें हर सप्ताह वर्कलोड को लेकर फीडबैक देते हैं। हम उसे देखते हैं और उसके हिसाब से अभ्यास करते हैं।”

45 साल के कोच ने कहा कि युवा खिलाड़ियों को जरूरत पड़ने पर आगे आना होगा। उन्होंने कहा, “हमारे पास अच्छा गेंदबाजी अटैक है। मोहम्मद शमी शानदार है। पिछले सीजन में वो हमारे लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। इसलिए हमारे पास विविधता है और यही अहम है। टीम में गहराई होना महत्वपूर्ण है।”

उन्होंने कहा, “एक गेंदबाजी ईकाई के तौर पर हम जो चाहते हैं उसके लिए आपको युवा खिलाड़ियों को आगे आने की जरूरत है जैसे- ईशन पोरेल, अर्शदीप सिंह, र्दशन नालकंडे। उन्हें उसी स्तर पर काम करना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि अगर चोटें लगें तो ये लोग तैयार रहें। उन्हें टीम संतुलन के हिसाब से खेलने को लेकर भी तैयार रहना होगा। मेरे लिए जरूरी है कि मैं उन्हें मैच फिट रखूं।”

लैंगवेल्ड्ट ने टीम के कोच अनिल कुंबले और कप्तान केएल राहुल की भी तारीफ की और कहा, “मैं अनिल के खिलाफ खेला हूं और उन्हें जानता हूं। वो शानदार हैं। वो जानते है कि कब खिलाड़ियों को पुश करना है और कब नहीं। राहुल ने उच्च स्तर के पैमाने तय किए हैं, वो उदाहरण पेश करते हैं। वो ज्यादा शिकायत नहीं करते। हमने पिछले सीजन बात की थी। हमें विकेट लेने की जरूरत है। जो रनरेट नीचे ला सके और विपक्षी टीम पर दबाव बना सके। इसलिए हमें विकेट लेने की जरूरत है।”