IPL 2020: It was a horrible toss to lose to be honest because dew made it impossible to bowl, says KL Rahul
केएल राहुल (AFP)

राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में मिली करारी हार के बाद किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान केएल राहुल ने कहा कि उनकी टीम को टॉस हारने का खामियाजा भुगतना पड़ा क्योंकि बाद में ओस की वजह से पिच बल्लेबाजी के लिए काफी आसान हो गई थी, वहीं गेंदबाजी उतनी ही मुश्किल।

राहुल ने मैच के बाद कहा, ‘‘टॉस गंवाना काफी निराशाजनक रहा क्योंकि बाद में काफी ओस गिरी। बाद में बल्लेबाजी करना बेहद आसान हो गया। रिस्ट स्पिनर चाहते हैं कि गेंद सूखी रहे और सतह से गेंद ग्रिप हो लेकिन ओस के कारण ये काफी मुश्किल हो गया। हालांकि जब हम बल्लेबाजी कर रहे थे तो ये बुरा स्कोर नहीं था।’’

उन्होंने कहा कि 185 रनों का स्कोर बचाया जा सकता था लेकिन गेंदबाजों को गीली गेंद से परेशानी हुई। राहुल ने कहा, “हमने जब बल्लेबाजी की थी तब विकेट रुक कर खेल रही थी उस लिहाज से ये खराब टोटल नहीं था। हमने गेंदबाजी भी बुरी नहीं की, लेकिन हमें गीली गेंद से बेहतर गेंदबाजी करना सीखना होगा। ओस के बारे में कुछ नहीं किया जा सकता।”

पंजाब के खिलाफ जीत के बाद बोले स्मिथ- टूर्नामेंट के बीच में कुछ और मैच जीत पाते तो अच्छा होता

राहुल ने कहा कि उनके गेंदबाजों ने खराब गेंदबाजी नहीं की। उन्होंने कहा, ‘‘हमने खराब गेंदबाजी नहीं की लेकिन हमें गीली गेंद के साथ बेहतर गेंदबाजी करना सीखना होगा। ओस की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती। हमने मैदानकर्मियों के साथ बात की थी और उन्होंने कहा था कि पिछले मैच में ओस नहीं थी। आप इसके लिए तैयारी नहीं कर सकते। बस आपको सामंजस्य बैठाना होगा।’’

राजस्थान के खिलाफ मैच में पंजाब के स्टार बल्लेबाज क्रिस गेल ने 63 गेंदो पर 6 चौकों और 8 छक्कों की मदद से 99 रनों की पारी खेली। इस पारी के साथ गेल ने टी20 क्रिकेट में 1,000 छक्के पूरे किए।

गेल के बारे में राहुल ने कहा, “क्रिस ने अच्छी बल्लेबाजी की। ये सीजन ऐसा रहा है कि कुछ भी आसानी से नहीं मिली। हम हर एक अंक के लिए संघर्ष करना पड़ा। इस बात से कोई आश्चर्य नहीं है कि सब कुछ आखिरी मैच पर आ गिरा है।”

राहुल का इशारा इस बात की ओर था कि 50 मैच पूरे होने के बाद भी 13वें सीजन को अब तक केवल एक ही प्लेऑफ टीम मिली है। जबकि इससे पहले की सीजन देखें तो टूर्नामेंट के इस भाग तक दो या तीन क्वालिफाइंग टीमों के नाम साफ हो जाते थे।