पूर्व क्रिकेटर संजय मांजरेकर का कहना है कि मुश्किल में फंसी चेन्नई सुपर किंग्स को अपने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने नेतृत्व की जरूरत है। मांजरेकर का मानना है कि ऐसा करने से पहले कैप्टन कूल को कुछ छोटी-छोटी परेशानियां सुलझानी होंगी।

टाइम्स ऑफ इंडिया के अपने कॉलम में मांजरेकर ने लिखा, “चेन्नई सुपर किंग्स ऐसी टीम है जो कभी कभार ही दबाव में आती है। इस समय वो दबाव में हैं। उनके प्रशंसक भी सोशल मीडिया पर खामोश हो गए हैं, वो भी चिंतित है। वो हल के लिए महेंद्र सिंह धोनी की तरफ देख रहे हैं।”

उन्होंने लिखा, “टूर्नामेंट में चेन्नई का रवैया काफी अलग रहा है, वो ऐसी टीम है जो मुंबई के विपक्ष में हैं, जिनकी टीम में मौजूद हर एक खिलाड़ी अपने दम पर टी20 मैच जीतने का काबिलियत रखता है। हालांकि चेन्नई उस मामले में मुंबई के बराबर नहीं है लेकिन एक यूनिट के तौर पर वो मैचविनर हैं। और इसके लिए उन्हें धोनी की जरूरत है।”

भारतीय कमेंटेटर मांजरेकर का मानना है कि यूएई की पिचों के हिसाब से धोनी को प्लेइंग इलेवन में एक अतिरिक्त गेंदबाजी विकल्प की जरूरत है।

उन्होंने लिखा, “कोई और कप्तान चेन्नई टीम के वो नतीजे नहीं निकलवा पाता जो धोनी कर लेता है और अगर चेन्नई धोनी से आगे सोच रही है तो शायद एक अलग ही टीम संरचना नजर आए लेकिन अगर धोनी टीम के केंद्र में रहने का फैसला करने हैं तो शायद ऐसा ना हो। फिलहाल के लिए धोनी के सामने कुछ छोटे और अहम मुद्दे हैं।”

मांजरेकर ने आगे लिखा, “एक अच्छी पिच पर उसके पास एक अतिरिक्त गेंदबाजी विकल्प होना चाहिए, ज्यादातर टीमों ने ऐसा करना शुरू कर दिया है। चेन्नई में वो जडेजा के चार ओवरों पर निर्भर कर सकते थे लेकिन यूएई में फिलहाल ये सही नीति नहीं है।”

पहले मैच में मैचविनिंग प्रदर्शन के बाद हैमस्ट्रिंग की वजह से अंबाती रायुडू के प्लेइंग इलेवन से बाहर होने की वजह से सीएसके की परेशानियां और बढ़ी थी। हालांकि रायुडू अब फिट हैं और हैदराबाद के खिलाफ शुक्रवार, 2 अक्टूबर को होने वाले मैच का हिस्सा बनेंगे।

रायुडू की वापसी के बाद चेन्नई टीम एक अतिरिक्त गेंदबाज को प्लेइंग इलेवन में रख सकेगी। इस पर मांजरेकर ने लिखा, “चेन्नई गेंदबाजी को मजबूत करने के लिए एक बल्लेबाज को ड्रॉप कर सकती है। आज के मैच में अंबाती रायुडू विजय की जगह ले सकते हैं, जिससे उनकी बल्लेबाजी मजबूत होगी लेकि गेंदबाजी, अगर रुतुराज गायकवाड़ मध्यक्रम में बल्लेबाजी कर रहा है तो इससे बेहतर होगा कि उसे बाहर करें और एक पूर्व गेंदबाज को लें।”

उन्होंने आगे लिखा, “एक बच्चे के लिए टूर्नामेंट के बीच में बल्लेबाजी करना मुश्किल है। उसकी जगह वो एक गेंदबाज को ले सकते हैं जो उन्हें चार ओवर दे सके। ब्रावो और ताहिर सबसे सही विकल्प हैं।”