आईपीएल 2020 में दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) की ओर से खेल रहे अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने मौजूदा टी20 लीग में सोमवार को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) के सलामी बल्लेबाज एरोन फिंच (Aaron Finch) को मांकडिंग (Mankding) आउट नहीं किया. अश्विन वही गेंदबाज हैं जिन्होंने पिछले सीजन राजस्थान रॉयल्स के विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर को नॉन-स्ट्राइकर छोर पर लाइन से ज्यादा बाहर निकलने के बाद रन आउट कर दिया था जिससे उनकी खूब आलोचना हुई थी.

दिल्ली कैपिटल्स के कोच रिकी पोंटिंग ने अश्विन से वादा किया है कि वह आईसीसी से उन टीमों पर रनों का जुर्माना लगाने के बारे में बात करेंगे जिनके बल्लेबाज नॉन-स्ट्राइकर छोर पर ज्यादा ही बाहर निकल आते हैं.

अश्विन ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, ‘जब तक चोर पश्चाताप नहीं करे तब तक आप चोरी नहीं रोक सकते. मैं हमेशा इसकी निगरानी नहीं रख सकता.  मैंने ट्वीट में पोंटिंग को टैग किया.  उन्होंने (पोंटिंग) कहा कि उन्होंने मुझे (फिंच) को रन आउट करने के लिए कह दिया होता.  उन्होंने कहा कि गलत चीज गलत ही होती है.’

‘अश्विन जुर्माने के बारे में आईसीसी समिति से बात कर रहे हैं’

बकौल अश्विन, ‘उन्होंने कहा कि वह जुर्माने के बारे में आईसीसी समिति से बात कर रहे हैं.  वह अपने वादे को रखने के लिए सचमुच काफी मेहनत कर रहे हैं. ’ उन्होंने नॉन-स्ट्राइकर छोर पर बल्लेबाज को आउट नहीं करने की पोंटिंग की सोच को सम्मान देने के लिये ऐसा किया और साथ ही फिंच उनके टीम के पुराने साथी भी रहे हैं.

अश्विन ने कहा, ‘वह (फिंच) किंग्स इलेवन पंजाब के दिनों से ही अच्छा दोस्त रहा है, इसलिए मैंने इसे उन्हें अंतिम चेतावनी के तौर पर लिया. ’ इस सीनियर ऑफ स्पिनर ने यह भी कहा कि कम से कम 10 रन जुर्माने के तौर पर काटे जाने चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘इसकी सजा कड़ी होनी चाहिए.  ऐसा करने के लिए 10 रन का जुर्माना कर दो तो कोई भी ऐसा नहीं करेगा.  इस तरह से बल्लेबाज को आउट करना कोई कौशल की बात नहीं है लेकिन गेंदबाजों के पास कोई अन्य विकल्प भी नहीं है.’