इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के 13वें एडिशन में टाइटल स्पॉन्सर कौन होगा इसको लेकर अब भी स्थिति साफ नहीं है. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट ( EOI) जमा करने की अंतिम तारीख शुक्रवार तक ही थी. ऐसे में टाटा समूह (Tata Sons) और शिक्षा प्रौद्यौगिकी कंपनी ‘अनअकैडमी’और फंतासी स्पोर्ट्स मंच ‘ड्रीम11’ने इस साल चीनी मोबाइल फोन कंपनी वीवो (VIVO) की जगह  टाइटल प्रायोजन अधिकार हासिल करने के मद्देनजर औपचारिक रूप से रूचि जताने संबंधित दस्तावेज ईओआई सौंप दिए हैं.

19 सितंबर से होगा आयोजन 

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को ईओआई जमा करने की अंतिम तारीख शुक्रवार तक ही थी. आईपीएल का आयोजन 19 सितंबर से 10 नवंबर तक इस साल संयुक्त अरब अमीरात में किया जाएगा.

वीवो के साथ था 440 करोड़ का करार 

टाटा समूह के आने से अब टाइटल प्रायोजन अधिकार की होड़ रोचक हो गई है. बीसीसीआई को उम्मीद है कि बोली वीवो के सालाना 440 करोड़ रुपये के करार से बहुत कम नहीं होगा भले ही यह अधिकार संक्षिप्त अवधि के लिए दिए जाएंगे .

कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया ,‘हां , टाटा समूह ने आईपीएल टाइटल अधिकारों के लिए ईओआई जमा करा दी है .’

इसकी जानकारी रखने वाले बीसीसीआई के वरिष्ठ सूत्र ने इससे पहले पीटीआई से कहा था , ‘अनअकैडमी और ड्रीम11 ने आईपीएल के टाइटल प्रायोजन अधिकार हासिल करने के लिए ईओआई सौंप दिया है. ’ अधिकारी ने कहा, ‘ईओआई में बोली लगाने की राशि का जिक्र नहीं होता. यह 18 अगस्त को ईओई एट बीसीसीआई टीवी को भेजा जाएगा.’

पंतजली और जियो की पुष्टि नहीं 

बीसीसीआई ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि ऊंची बोली लगाने वाले को तब तक टाइटल प्रायोजन अधिकार नहीं मिल सकते जब तक मूल संस्था उसकी योजना से संतुष्ट नहीं हो. योग गुरू बाबा रामदेव की पतंजलि (Patanjali) और जियो कम्युनिकेशंस (Jio Communications) भी दौड़ में है लेकिन बीसीसीआई की ओर से अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है.