एक साल, महीने और 10 दिनों के बाद जब महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) मैदान पर उतरे तो फैंस को उनसे एक बड़ी पारी की उम्मीद थी। हालांकि धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के पहले मैच में चिर प्रतिद्वंद्वी मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) को 5 विकेट से हराया। मैच के दौरान सीएसके अनुभवी और युवा खिलाड़ियों को सही मिश्रण के साथ उतरेगी, जिसका फायदा टीम को मिला।

लक्ष्य का पीछा करते हुए अंबाती रायुडू और फॉफ डु प्लेसिस ने तीसरे विकेट के लिए 115 रन की साझेदारी की जबकि पीयूष चावला ने शानदार गेंदबाजी की और उन्हें सैम कर्रन, दीपक चाहर और लुंगी एनगिडी जैसे गेंदबाजों का अच्छा साथ मिला।

मैच के बाद धोनी ने कहा, ‘‘आपको अनुभवी खिलाड़ियों की जरूरत होती है कि वो मैदान पर युवा खिलाड़ियों का मार्गदर्शन करें। युवा खिलाड़ियों को आईपीएल में सीनियर खिलाड़ियों के साथ 60-70 दिन बिताने का मौका मिलता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘अनुभव काम करता है, सभी इस बारे में बात कर रहे हैं। लेकिन काफी मैच खेलने के बाद ही आपको अनुभव हासिल होता है। 300 वनडे मैच खेलना किसी भी क्रिकेटर का सपना होता है और जब आप मैदान पर टीम उतारते हो तो आपको युवा और अनुभवी खिलाड़ियों के अच्छे मिश्रण की जरूरत होती है।’’

हालांकि धोनी ने माना कि जीत के बावजूद टीम के कुछ विभागों में सुधार की जरूरत है। कप्तान ने कहा, ‘‘काफी सकारात्मक पक्ष रहे लेकिन कुछ ऐसे विभाग हैं जिन पर काम करने की जरूरत है। विशेषकर टाइमिंग को लेकर। बाद में खेलते हुए ओस पड़ने तक थोड़ा मूवमेंट रहता था। ऐसे में अगर आपके पास विकेट बचे हों तो आप फायदे में रहते हो।’’

रायुडू और डु प्लेसिस की साझेदारी के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘हमारे गेंदबाजों को लय हासिल करने में समय लगा। रायुडू ने फॉफ के साथ बेहतरीन साझेदारी निभाई। हमारे अधिकतर खिलाड़ी संन्यास ले चुके हैं इसलिए अच्छी बात ये है कि हमारा कोई खिलाड़ी चोटिल नहीं है।’’