न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने ऐलान किया है कि अगर इंग्लैंड के खिलाफ दो जून से शुरू होने वाले पहले टेस्ट क्रिकेट मैच का शेड्यूल आगामी इंडियन प्रीमियर लीग नॉकआउट स्टेज टकराता है तो वो तब भी अपने खिलाड़ियों को इस टी20 लीग के सभी मैचों में खेलने से नहीं रोकेगा।

स्टफ.सीओ.एनजेड की रिपोर्ट के अनुसार आईपीएल में भाग लेने वाले न्यूजीलैंड के खिलाड़ी बांग्लादेश दौरे पर होने वाली सीमित ओवर फॉर्मेट सीरीज से भी बाहर रह सकते हैं। माना जा सकता है कि बोर्ड का फैसला भारत में होने वाले आगामी टी20 विश्व कप की तैयारी को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।

केन विलियमसन, ट्रेंट बोल्ट, लॉकी फर्गुसन, मिशेल सैंटनर और टिम सीफर्ट को आईपीएल में खेलना है। इनके अलावा गुरुवार को होने वाली खिलाड़ियों की नीलामी में भी न्यूजीलैंड के खिलाफ कुछ खिलाड़ी इस लीग से जुड़ सकते हैं। न्यूजीलैंड के 20 खिलाड़ी नीलामी में शामिल होंगे जिनमें काइल जैमीसन भी शामिल हैं।

आईपीएल के अप्रैल के दूसरे हफ्ते में शुरू होने की संभावना है और उसके नॉकआउट मैच जून के शुरू में होंगे। न्यूजीलैंड के इंग्लैंड दौरे का पहला मैच दो जून को लार्ड्स में शुरू होगा। न्यूजीलैंड पहले ही विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के लिये क्वालीफाई कर चुका है और इंग्लैंड के खिलाफ ये श्रृंखला उसका हिस्सा नहीं होगी।

रिपोर्ट के अनुसार एनजेडसी के मुख्य कार्यकारी डेविड व्हाइट ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में कुछ खिलाड़ियों के नहीं खेल पाने की संभावना के बारे में कहा, ‘‘एनजेडसी व्यावहारिक रवैया अपनाएगा क्योंकि ये मैच कार्यक्रम में बाद में जोड़े गये। हम खिलाड़ियों के साथ मिलकर फैसला करेंगे। ’’

इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट मैचों की घोषणा पिछले महीने ही की गयी और व्हाइट इसी संदर्भ में बात कर रहे थे। व्हाइट ने कहा कि इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है कि न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों को अगले महीने कब अपनी आईपीएल टीमों से जुड़ना होगा।

खिलाड़ियों को मार्च के आखिर में जैव सुरक्षित वातावरण में प्रवेश करना होगा जिसका मतलब है कि वे बांग्लादेश के खिलाफ 28 और 30 मार्च तथा एक अप्रैल को होने वाले टी20 मैचों में नहीं खेल पाएंगे। उनके तीन वनडे (20 से 26 मार्च) में खेलने की संभावना भी कम है।

एनजेडसी के सीईओ ने कहा, ‘‘हमें अब भी इस फैसले का इंतजार है कि आईपीएल कब शुरू होगा और उसके लिये क्या प्रोटोकॉल होंगे। लेकिन कार्यक्रम में टकराव पर हम व्यावहारिक रवैया अपनाएंगे। ’’