© AFP
© AFP

मुंबई। दर्शकों की संख्या में इजाफे और टूर्नामेंट में अधिकांश समय विवाद से दूर रहने के कारण इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का ब्रांड मूल्य 10वें टूर्नामेंट के बाद बढ़कर पांच अरब 30 करोड़ डॉलर हो गया है। ग्लोबल वैलुएशन एंड कॉरपोरेट फाइनेंस एडवाइजर डफ एंड फेल्प्स ने यह आकलन किया है। डफ एंड फेल्प्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि व्यवसाय के रूप में आईपीएल की कुल कीमत पिछले साल के चार अरब 20 करोड़ डालर की तुलना में बढ़कर पांच अरब 30 करोड़ डॉलर हो गई है जिसमें तीन साल का 13.9 प्रतिशत सीएजीआर भी शामिल है।

डफ एंड फेल्प्स इंडिया के प्रबंध निदेशक वरुण गुप्ता ने कहा, ‘‘इस आईपीएल सत्र ने सभी सही कारणों से सुर्खियां बटोरी- टूर्नामेंट काफी हद तक विवादों से मुक्त रहा, सोशल मीडिया से जुड़ाव में इजाफा हुआ, रणनीतिक और बेहद सफल मार्केटिंग फैसले हुए और मैदान पर प्रदर्शन में सुधार हुआ। इन सभी से दुनिया की सबसे अधिक कीमत वाली क्रिकेट लीग के रूप में आईपीएल की स्थिति मजबूत हुई।’’

[ये भी पढ़ें: विराट कोहली ने बना ली है एमएस धोनी को फॉर्म में वापस लाने की योजना, कह दी ये बात]

इस बीच टीमों में आईपीएल 2017 का खिताब जीतने वाली मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली मुंबई इंडियन्स की टीम 10 करोड़ 60 लाख डालर की ब्रांड कीमत के साथ शीर्ष पर है। कोलकाता नाइट राइडर्स नौ करोड़ 90 लाख डालर के साथ दूसरे जबकि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर आठ करोड़ 80 लाख डालर के साथ तीसरे स्थान पर है। आईपीएल 2018 में फिर से दर्शकों का उत्साह सातवें आसमान पर होगा क्योंकि इस सीजन के साथ ही दो फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स लौट रही हैं। इन दोनों फ्रेंचाइजियों को साल 2016 में निलंबित कर दिया गया था।