आईपीएल की संचालन परिषद ने रविवार को चीनी मोबाइल कंपनी विवो सहित सभी प्रायोजकों को बरकरार रखने का फैसला किया और इस साल संयुक्त अरब अमीरात (UAE)  में होने वाले टूर्नामेंट में कोविड-19 के कारण असीमित संख्या में खिलाड़ियों को बदलने की मंजूरी दी।

आईपीएल संचालन परिषद (GC) ने रविवार को हुई ‘वर्चुअल’ बैठक में फैसला किया कि टूर्नामेंट 19 सितंबर से 10 नवंबर तक खेला जायेगा।

आईपीएल जीसी के एक सदस्य ने नाम नहीं बताने की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘‘मैं सिर्फ यही कह सकता हूं कि हमारे सभी प्रायोजक हमारे साथ हैं। उम्मीद है कि आप समझ ही गये होंगे। ’’

जून में पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेना के बीच हुई भिंड़त के बाद चीनी प्रायोजन बड़ा मुद्दा बन गया था। भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (BCCI) ने इसके बाद करार की समीक्षा का वादा किया था।

कोविड-19 के बढ़ते मामलों के कारण आईपीएल को भारत से बाहर कराना पड़ रहा है और दुनिया भर में स्वास्थ्य सुरक्षा संबंधित नाजुक परिस्थितियों को देखते हुए कोविड-19 के कारण खिलाड़ियों को बदलने की अनुमति दी जायेगी जो असीमित होगी।

आईपीएल जीसी सदस्य ने कहा, ‘‘हमें एक हफ्ते के अंदर गृह और विदेश मंत्रालय से जरूरी मंजूरी मिलने की उम्मीद है। फाइनल 10 नवंबर को खेला जायेगा क्योंकि इससे यह दिवाली के हफ्ते में शामिल हो जायेगा और प्रसारकों के लिये यह लुभावना मौका रहेगा।’’

प्रायोजक अनुबंध में कोई बदलाव नहीं होगा जिसकी जानकारी शनिवार को दे दी गयी थी। मौजूदा वित्तीय कठिन परिस्थितियों को देखते हुए इतने कम समय में बोर्ड के लिये नया प्रायोजक ढूंढना मुश्किल होगा। उम्मीद है कि खेलने वाले सदस्यों के हिसाब से आठ फ्रेंचाइजी के लिये टीम की संख्या 24 खिलाड़ी होगी।