बीसीसीआई (BCCI) इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2022) के स्पॉन्सरशिप से 1,000 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई करेगा. ये आईपीएल के 15 सीजनों में अब तक बीसीसीआई द्वारा अर्जित रिकॉर्ड प्रायोजन राजस्व होगा. बीसीसीआई ने इस साल टाटा के रूप में एक नए शीर्षक प्रायोजक और दो नए सहयोगी प्रायोजकों के साथ करार किए हैं.

इनसाइड स्पोर्ट की रिपोर्ट के अनुसार, आईपीएल जीसी ने हाल ही में रुपे और स्विगी के साथ आईपीएल के केंद्रीय प्रायोजकों के रूप में नए सौदों की घोषणा की. रुपे और स्विगी के साथ सालाना 48-50 करोड़ रुपये का सौदा है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि बोर्ड ने पहली बार सीजन के लिए सभी नौ प्रायोजन स्लॉट भरे हैं. बीसीसीआई के लिए दो स्रोतों से बड़ी बढ़ोतरी आ रही है. सबसे पहले इस साल प्रायोजकों की संख्या में इजाफा हुआ है.

बीसीसीआई को दूसरा फायदा टाइटल स्पॉन्सरशिप डील से मिल रहा है. हालांकि टाटा समूह 335 करोड़ रुपये का भुगतान कर रहा है जो कि वीवो के भुगतान से कम है, लेकिन फिर भी बीसीसीआई लगभग 30-40 प्रतिशत अधिक कमाएगा.

सूत्रों के मुताबिक डील को इस तरह ट्रांसफर किया गया है कि सभी घाटे को वीवो वहन करेगी. सूत्रों ने इनसाइडस्पोर्ट को बताया कि बीसीसीआई को न केवल वीवो से अनुबंधित राशि मिलेगी, बल्कि आईपीएल 2022 और आईपीएल 2023 के मैचों की संख्या में वृद्धि के अनुपात में भुगतान भी मिलेगा.

विवो ने आगामी दो सत्रों के दौरान मैचों की संख्या में वृद्धि के कारण आईपीएल 2022 के लिए 484 करोड़ रुपये और आईपीएल 2023 के लिए 512 करोड़ रुपये का भुगतान करने पर सहमति व्यक्त की थी.

वीवो को अगले दो सीजनों में बीसीसीआई को 996 करोड़ रुपये का भुगतान करना था. अब टाटा समूह ने इसी अवधि के लिए सिर्फ 670 करोड़ रुपये गिरवी रखे हैं, जिससे घाटा वीवो द्वारा वहन किया जाएगा.

इतना ही नहीं, बल्कि अनुबंध की समझ के अनुसार, वीवो बीसीसीआई को ‘ट्रांसफर फीस’ भी देगा जैसा कि उस समय हुआ था जब ओप्पो ने बायजू को अपने अधिकार हस्तांतरित किए थे. ये सब टाइटल स्पॉन्सरशिप स्लॉट से बीसीसीआई के लिए 600 करोड़ रुपये से अधिक का होगा.

रिपोर्ट के अनुसार, बीसीसीआई ने पहली बार आईपीएल के सभी छह आधिकारिक पार्टनर स्लॉट भरे हैं. इनसाइड स्पोर्ट ने बताया कि स्विगी इंस्टामार्ट और रुपे नए जोड़े हैं. दोनों 48-50 करोड़ रुपये की सीमा में भुगतान कर रहे हैं.

बीसीसीआई टाइटल स्पॉन्सरशिप स्लॉट से बोर्ड के खजाने में 550-600 करोड़ रुपये जुड़ जाएंगे. रिपोर्ट में कहा गया है कि पेटीएम आधिकारिक भागीदार के रूप में और सिएट रणनीतिक समयआउट भागीदार के रूप में जारी है.