विकेटकीपर बल्लेबाज इशान किशन (Ishan Kishan) के पूर्व कोच उत्तम मजूमदार (Uttam Majumdar) का मानना है कि वो अगले कुछ सालों में भारत की सीमित ओवरों की टीम में एक महत्वपूर्ण सदस्य बन सकते हैं। दरअसल टी20 विश्व में न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में बाएं हाथ का यह युवा बल्लेबाज हालांकि बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में जल्दी आउट हो गया।

जिसके बाद भारतीय बल्लेबाजी क्रम में बदलाव की आलोचना करते हुए पूर्व दिग्गज सुनील गावस्कर ने ईशान को ‘हिट-या-मिस खिलाड़ी’ करार दिया था लेकिन मजूमदार ने उन्हें ‘हिट या मिस’ खिलाड़ी मानने से इंकार किया है।

उन्होंने कहा, ‘‘वो (ईशान) एक उपयोगी खिलाड़ी है, जो छोटे फॉर्मेट के लिए सबसे उपयुक्त है। वो पारी का आगाज कर सकता है, एक फिनिशर की भूमिका निभा सकता है। वो बहुत फुर्तीला और शानदार फील्डर है।’’

बिहार के पूर्व अंडर-22 क्रिकेटर मजूमदार ने इशान की प्रतिभा को तब पहचाना था जब वो महज सात साल के थे। उन्होंने कहा, ‘‘किसी भी खिलाड़ी को असफलता का सामना करना पड़ सकता है। ये दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि वो बड़े मैच में आउट हो गया। लेकिन अगर टीम की ये रणनीति सफल हो जाती तो वो रातों-रात स्टार बन जाता।’’

उन्होंने विश्व कप से पहले ईशान के फॉर्म की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘जिस तरह से उसने पिछली तीन पारियों में बल्लेबाजी की थी, उसे देखते हुए और मौके (विश्व कप में) मिलने चाहिए थे।’’

ईशान ने विश्व कप से पहले आईपीएल (इंडियन प्रीमियर लीग) में नाबाद 50 और 84 रन की पारी खेलने के बाद इंग्लैंड के खिलाफ अभ्यास मैच में नाबाद 70 रन बनाये थे।

मजूमदार ने कहा, ‘‘वो बहुत नैसर्गिक खिलाड़ी हैं और बड़े शॉट खेलने से नहीं डरता है। उस दिन उसे खास तौर पर पावरप्ले में बड़ा शॉट खेलने के लिए भेजा गया था लेकिन दुर्भाग्य से वो उनका दिन नहीं था। उसे हालांकि और भी कई मौके मिलेंगे।’’

उन्होंने कहा कि राहुल द्रविड़ के कोच बनने के बाद ईशान को ज्यादा मौके मिलना चाहिए। मजूमदार ने कहा, ‘‘ोद्रविड़ सर उन्हें अच्छे से जानते हैं क्योंकि ईशान 2016 अंडर -19 विश्व कप के लिए टीम के कप्तान बने थे। वो भारत ‘ए’ का भी नेतृत्व कर चुके है। लगातार दो विश्व कप से उसके लिए काफी उम्मीदें हैं। अभी तो उसने शुरुआत की है।’’