कॉलिन मुनरो © AFP
कॉलिन मुनरो © AFP

राजकोट। शतकवीर कॉलिन मुनरो ने कहा कि फॉर्म में चल रहे भारत के सलामी बल्लेबाजों को जल्द आउट करना शानदार रहा और उन्होंने यहां दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में न्यूजीलैंड की 40 रन की जीत का श्रेय बेहतरीन गेंदबाजी आक्रमण को दिया। बायें हाथ के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने सलामी बल्लेबाजों शिखर धवन और रोहित शर्मा को दूसरे ओवर में ही पवेलियन भेजा दिया जिससे मेजबान टीम ने 197 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 11 रन पर ही दो विकेट गंवा दिए।

मैच में सात छक्कों और इतने ही चौकों की मदद से नाबाद 109 रन की पारी खेलने वाले मुनरो ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘यह शानदार था। विकेटों से टीम की लय रुक गई और वे दो खिलाड़ी अच्छी फॉर्म में थे जैसा कि हमने पहले टी20 में देखा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने रिकॉर्ड साझेदारी (158) की और ट्रेंट के लिए आक्रमण की अगुआई करते इस तरह का प्रदर्शन करना बेजोड़ था। एडम मिल्ने का प्रदर्शन भी शानदार रहा।’’

मुनरो ने कहा, ‘‘इस तरह की गेंदबाजी से हमें लय और आत्मविश्वास मिला और इसके बाद स्पिनर (मिचेल सेंटनर और ईश सोढ़ी) अपना काम कर सकते थे क्योंकि वे (भारत) शुरू से ही जरूरी गति से रन नहीं बना पा रहे थे।’’ भारतीय टीम न्यूजीलैंड के लक्ष्य का पीछा करते हुए सात विकेट पर 156 रन ही बना सकी और मेहमान टीम ने 40 रन से जीत दर्ज करके श्रृंखला 1-1 से बराबर की।

दक्षिण अफ्रीका में जन्में मुनरो ने शानदार शतक जड़ा जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया। वह टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में दो शतक जड़ने वाले सिर्फ चौथे बल्लेबाज बने। अपनी इस पारी के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘‘मैं टी20 का लुत्फ उठाता हूं, यह ऐसा मैच है जहां आपको पता है कि यह छोटा मैच है और आपको खुद को अभिव्यक्त करना है। कभी- कभी लंबे प्रारूप में आप अपने ऊपर काफी दबाव बना लेते हो जहां आपको हमेशा रन बनाने होते हैं।’’

वनडे में एक भी छक्का न लगा पाने वाले समरवीरा बने श्रीलंका टीम के बल्लेबाजी कोच
वनडे में एक भी छक्का न लगा पाने वाले समरवीरा बने श्रीलंका टीम के बल्लेबाजी कोच

अपने टी20 शतकों पर उन्होंने कहा, ‘‘बेशक अपने देश के लिए पहला शतक काफी मायने रखता है जो बांग्लादेश के खिलाफ था। भारत में कड़े प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ खेलना और शतक जड़ना तथा पूरे ओवर खेलना काफी मायने रखता है।’’