© AFP
© AFP

टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक रोमांचक मैच में 21 रनों से हार का सामना करना पड़ा। जैसा कि टीम इंडिया सीरीज पहले से ही अपने नाम कर चुकी थी इस लिहाज से इसे ऑस्ट्रेलिया के लिए सांत्वना जीत कहेंगे, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के लिए यह जीत हर लिहाज से उत्साह बढ़ाने वाली है। पिछले कुछ दिनों से वे लगातार हार रहे थे और यह जीत उनके खेमे मे थोड़ी राहत तो लाई होगी। टीम इंडिया इस मैच में शुरू से ही कमतर नजर आई, पूरे मैच में उनमें वह तीव्रता नजर नहीं आई जो पिछले मैचों में दिखी थी।

मैच के बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने इशारों-इशारों में अपनी गलती मानी। उन्होंने कहा कि हमे अच्छी शुरुआत मिली थी लेकिन हमे उसके बाद भी बड़ी साझेदारी की दरकार थी लेकिन उसके बाद हमने बल्लेबाजी में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। गौर करें कि 335 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया ने एक समय 135/1 का स्कोर 23वें ओवर में बना लिया था। क्रीज पर कोहली और रोहित शर्मा खेल रहे थे। रोहित ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की बखिया उधेड़ रहे थे। लेकिन इसी बीच रन लेने को लेकर दोनों बल्लेबाजों के बीच गफलत हो गई और रोहित शर्मा रन आउट हो गए। यह रन आउट ही टीम इंडिया को भारी पड़ गया और एक समय मैच जीतती नजर आ रही टीम इंडिया इस झटके से अंत तक नहीं उबर पाई और मैच 21 रनों से हार गई।

गौर करने वाली बात है कि इस मैच में विराट कोहली ने रोहित शर्मा को रन आउट करा दिया। वैसे यह पहला मौका नहीं है जब दोनों खिलाड़ियों के बीच रन लेने को लेकर गफलत हुई है बल्कि ये दोनों खिलाड़ी एक दूसरे को 6 बार रन आउट करा चुके हैं जिसमें रोहित दो बार आउट हुए और विराट 4 बार। दिलचस्प बात ये है कि 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बैंगलोर में ही खेले गए वनडे में रोहित ने विराट को रन आउट करा दिया था। [ये भी पढ़ें: बेंगलुरू वनडे: एक मैच में बन गए 5 सबसे दिलचस्प रिकॉर्ड]

कोहली ने आगे कहा, उमेश-शमी ने अच्छी गेंदबाजी की। स्पिननरों के हमेशा अच्छे दिन नहीं होते। ऑस्ट्रेलिया आज वास्तव में बहुत अच्छा खेली। बैट से उनके इरादे साफ थे। उन्होंने चीजों को आराम से पीछे धकेल दिया। हम बहुत खराब नहीं खेले, लेकिन वे हमसे बेहतर खेले। इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने विदेशी सरजमीं पर अपनी लगातार 11 हार के सिलसिले को तोड़ दिया। साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने मौजूदा सीरीज में पहली जीत दर्ज की और सीरीज का समीकरण अब 3-1 हो गया है।