It would be foolish to write off Pakistan after heavy defeat against West Indies: Waqar Younis
@Facebook page Windies Cricket

आईसीसी विश्व कप के पहले मुकाबले में पाकिस्तान की टीम को वेस्टइंडीज के हाथों शर्मनाक हार झेलनी पड़ी। टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी पाकिस्तान की टीम महज 21.4 ओवर में 105 रन पर ऑलआउट हो गई थी। वेस्टइंडीज ने 13.4 ओवर में जीत का लक्ष्य 3 विकेट के नुकसान पर हासिल किया।

महान तेज गेंदबाज वकार यूनिस ने कहा कि विश्व कप के पहले मुकाबले में वेस्टइंडीज के हाथों शुक्रवार को ट्रेंट ब्रिज में मिली करारी शिकस्त के बाद पाकिस्तान को कमतर आंकना मूर्खता होगी।वकार ने हालांकि कहा कि उनका यह मतलब नहीं है कि टूर्नामेंट में खराब शुरुआत की तुलना 1992 के प्रदर्शन से की जा सकती है जब पाकिस्तान ने खराब शुरुआत के बाद अपना पहला विश्व कप का खिताब जीता था।

पढ़ें:- इंग्‍लैंड की जीत में चमके स्‍टोक्‍स, आर्चर, दक्षिण अफ्रीका को 104 रन से रौंदा

वकार ने आईसीसी के लिए लिखे कॉलम में कहा, ‘‘आपको याद रखना होगा कि यह विश्व कप बहुत लंबा टूर्नामेंट है। अभी भी बहुत क्रिकेट खेला जाना बाकी है और वेस्टइंडीज से हारने के बाद पाकिस्तान को कम आंकना मूर्खता होगी।’’

वकार ने पाकिस्तान की पारी के 105 रन पर समेटने की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘ पाकिस्तानी बल्लेबाजों के खिलाफ शॉट पिच गेंद का सही इस्तेमाल करने के लिए आपको वेस्टइंडीज के गेंदबाजों को श्रेय देना होगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ खासकर आंद्रे रसेल ने अपने पहले तीन ओवर्स में शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों के खिलाफ शानदार गेंदबाजी की। उन्हें सिर्फ दो सफलता मिली लेकिन उन्होंने बाकी के गेंदबाजों को रास्ता दिखा दिया।’’

पढ़ें:- पाकिस्तानी टीम 1992 का इतिहास दोहराने में सक्षम : वकार यूनिस

पाकिस्तान के 47 साल के इस पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि टीम की अनिश्चितत प्रदर्शन वाली प्रकृति के बारे में ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं। उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने 1992 विश्व कप के पहले मैच में करारी शिकस्त झेलने के बाद शानदार वापसी की और विजेता बने। लेकिन आप बीते समय के रिकॉर्ड पर निर्भर नहीं रह सकते जो 27 साल पहले हुआ था। 2019 में टूर्नामेंट जीतने के लिए टीम को कड़ी मेहनत करनी होगी।’’

वकार ने कहा, ‘‘इस तरह की हार से आत्मविश्वास कम होता है और हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि हम अपना समय वापसी के बारे में सोचने पर लगाए। सकारात्मक सोचे और खेल का रूख बदले।’’