भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा का चोट के साथ चोली-दामन का साथ रहा है. साहा ने बुधवार को कहा कि वह एक महीने के अंदर चोट से पूरी तरह उबर जाएंगे.

VIDEO: ‘बाहुबली’ फेम तमन्ना भाटिया ने अपने पसंदीदा क्रिकेटर को लेकर किया खुलासा

मुंबई में दाहिने हाथ की ऊंगली के ऑपरेशन के बाद पीटीआई से बातचीत में साहा ने कहा ,‘यह आम फ्रेक्चर था. इससे उबरने में पांच सप्ताह से अधिक नहीं लगेंगे. मैं घर पर कुछ समय आराम के बाद रिहैबिलिटेशन के लिए जाऊंगा.’

भारत को अगला टेस्ट न्यूजीलैंड के खिलाफ फरवरी में खेलना है और साहा के पास फिट होने के लिये पूरा समय है. कोलकाता में हुए डे-नाइट के टेस्ट के बारे में साहा ने कहा कि दृश्यता का मसला था क्योंकि सर्दी के मौसम के कारण धुंध थी.

उन्होंने कहा,‘मैच गर्मी में होता तो ऐसा नहीं होता. साइ्रटस्क्रीन चमकदार होती तो साफ दिखाई देता. गुलाबी गेंद निश्चित तौर पर चुनौतीपूर्ण थी.’

रहकीम कॉर्नवॉल ने 48 साल पुराना रिकॉर्ड दोहराया, रविंद्र जडेजा को भी छोड़ा पीछे

साहा ने कहा कि डे-नाइट का टेस्ट अपवाद हो सकता है लेकिन नियमित तौर पर नहीं खेला जा सकता. उन्होंने कहा,‘मुझे लगता है कि अधिकतम मैच लाल गेंद से ही होने चाहिए. बीच में एकाध मैच गुलाबी गेंद से हो सकता है फैसला लेकिन बीसीसीआई को लेना है.’

दरअसल, बांग्लादेश के खिलाफ कोलकाता में खेले गए पहले डे-नाइट टेस्ट के दौरान साहा की ऊंगली में फ्रेक्चर हुआ था. साहा को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अक्टूबर में हुई टेस्ट सीरीज के दौरान ऐसी ही चोट लगी थी. आईपीएल 2018 के दौरान उन्हें कंधे में चोट लगी थी जिसका उन्हें इंग्लैंड में ऑपरेशन कराना पड़ा. उनकी गैर मौजूदगी में रिषभ पंत टीम में आ गए लेकिन बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज में साहा ने वापसी की.

भारतीय टीम ने डे-नाइट टेस्ट को पारी और 46 रन से अपने नाम किया था.