‘It’s time for people to behave themselves’ Moeen Ali demands to turn the stump mics up
Moeen Ali, Joe Root © Getty Images

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी मोइन अली का कहना है कि मैदान पर अनुचित टिप्पणी और स्लेजिंग को रोकने के लिए स्टंप माइक की अवाज और बढ़ाई जानी चाहिए। अली का ये बयान सरफराज खान और शैनन गेब्रिएल के हालिया मामलों के बाद आया है।

पाकिस्तानी टीम के कप्तान सरफराज अहमद ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान एंडिल फेहलुकवायो पर नस्लीय टिप्पणी की थी। वहीं विंडीज गेंदबाज गेब्रिएल ने इंग्लैंड के कप्तान जो रूट के सामने समलैंगिंक टिप्पणी की थी।

ये भी पढ़ें: धोनी की तरह समय के साथ बेहतर होंगे रिषभ पंत: दीप दासगुप्ता

हालांकि आईसीसी ने मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए सरफराज और गेब्रिएल दोनों पर चार-चार मैचों का बैन लगाया है लेकिन अली इस तरह के मामलों को लोगों के सामने लाना चाहते हैं। वहीं कई क्रिकेट समीक्षकों ने स्टंप माइक को बंद करने का बात कही थी।

अली ने कहा, “वक्त आ गया है कि लोग अपना बर्ताव सुधार कर लें। स्टंप माइक की आवाज बढ़ाएं। उन्हें बंद क्यों करना है? ताकि लोग गाली दे सकें? निजी हमले करने की जरूरत ही नहीं है।”

गौरतलब है कि मोइन अली ने अपनी आत्मकथा में दावा किया था कि एशेज 2015 के दौरान कार्डिफ में खेले गए टेस्ट मैच के दौरान ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने उनके खिलाफ नस्लभेदी टिप्पणी की थी। हालांकि मामला बयानबाजी से आगे नहीं बढ़ा था और अली ने भी कोई आधिकारिक शिकायत नहीं की थी।

ये भी पढ़ें: विश्व कप जीते बिना हम इंग्लैंड की सर्वश्रेष्ठ वनडे टीम नहीं: मोइन अली

अली ने कहा, “ये शर्मनाक है क्योंकि शैनन गेब्रिएल अच्छा शख्स है और शांत स्वभाव का है। लेकिन ये समाज की सोच हैं, जो लोगों को मुंह से बाहर आती है। आप अब इससे बचकर नहीं निकल सकते। आपको सावधान रहना होगा।”

इंग्लिश खिलाड़ी जानते हैं कि स्लेजिंग को खेल से पूरी तरह से अलग नहीं किया सकता लेकिन निजी हमलों और नस्लभेदी टिप्पणियों की क्रिकेट में कोई जगह नहीं होनी चाहिए। अली ने कहा, “कल्पना करें उन सारी पुरानी कहानियों को, अगर हम उन्हें रिकॉर्ड कर पाते। अब हम ये काम कर सकते हैं।”

ये भी पढ़ें: टीम सलेक्शन: कोहली की वापसी, रोहित को आराम, पंत पर चर्चा

मोइन अली ने आगे कहा, “गाली देने की जरूरत नहीं है। आप इसे मजेदार बनाए। हम लोगों को खेल के प्रति आकर्षित करना चाहते हैं। स्लेज करने का भी एक शानदार तरीका है। अगर आपको लगता है कि वो अच्छे नहीं हैं। उन्हें उनके क्रिकेट को लेकर स्लेज करें, निजी ना हों, माइक की आवाज बढ़ाएं।”